एनसीईआरटी समाधान कक्षा 9 संस्कृत पाठ 1 भारतीवसन्तगीतिः

Photo of author
PP Team

हम आपके के लिए इस आर्टिकल के माध्यम कक्षा 9 संस्कृत भारतीवसन्तगीतिः के एनसीईआरटी समाधान लेकर आए हैं। कक्षा 9 संस्कृत पाठ 1 के प्रश्न उत्तर परीक्षा के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। हर छात्र परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करना चाहता हैं। इसके लिए छात्र बाजार में मिलने वाली गाइड या कुंजी पर काफी पैसा खर्च कर देते हैं। लेकिन आप इस आर्टिकल के माध्यम से एनसीईआरटी समाधान कक्षा 9 संस्कृत (NCERT Solutions Class 9 Sanskrit Chapter 1) पूरी तरह मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही कक्षा 9 संस्कृत पाठ 1 भारतीवसन्तगीतिः के प्रश्न उत्तर पढ़कर परीक्षा में अच्छे अंक भी प्राप्त कर सकते हैं।

NCERT Solutions Class 9 Sanskrit Chapter 1 भारतीवसन्तगीतिः

हमने आपके ये सभी कक्षा 9 संस्कृत के एनसीईआरटी समाधान सीबीएसई सिलेबस को ध्यान में रखकर बनाए हैं। इन समाधान से आप आने वाली परीक्षा की तैयारी बेहतर कर सकते हैं। शेमुषी भाग 1 पुस्तक में कुल 10 अध्याय है। पहले इसमें कुल 12 अध्याय थे। लेकिन अब इनकी संख्या घटाकर 10 कर दी गई हैं। आइये फिर नीचे एनसीईआरटी समाधान कक्षा 9 संस्कृत पाठ 1 (NCERT Solutions Class 9 Sanskrit Chapter 1 भारतीवसन्तगीतिः) पढ़ना शुरू करें।

पाठ 1 भारतीवसन्तगीतिः
अभ्यासः

प्रश्न 1 – एकपदेन उत्तरं लिखत:–

(क) कविः कां सम्बोधयति

उत्तराणि :-  वाणि।

(ख) कविः कां वादयितुं वाणीं प्रार्थयति?

उत्तराणि :- वीणाम्।

(ग) कीदृशीं वीणां निनादायितुं प्रार्थयति?

उत्तराणि :-  नवीनाम्।

(घ) गीतिं कथं गातुं कथयति?

उत्तराणि :-  मृदुम्।

(ङ) सरसा: रसालाः कदा लसन्ति?

उत्तराणि :- वसन्ते।

प्रश्न 2 – पूर्णवाक्येन उत्तरं  लिखत –

(क) कवि: वाणीं कि कथयति?

उत्तराणि :- कविः वाणी वीणां निनादयितुं कथयति।

(ख) वसन्ते किं भवति?

उत्तराणि :- वसन्ते मधुर – मञ्जरी –  पिञ्जरी भूत – मालाः सरसा: रसाला: लसन्ति एवं ललित – कोकिला – काकलीनां कलापाः भवति।

(ग) सलिलं तव वीणामाकर्ण्य कथम् उच्चलेत्?

उत्तराणि :- सलिलं तव वीणामाकर्ण्य सलीलम् उच्चलेत्।

(घ) कविः कस्याः तीरे मधुमाधवीनां नतां पङ्किम् अवलोक्य वीणां वादयितुं भगवतीं भारतीं कथयति?

उत्तराणि :- कविः भगवती भारती कलिन्दात्मजायाः यमुनाया सवानीरतीरे मधुमाधवीनां नतां पङ्क्तिम् अवलोक्य वीणां वादयितुं कथयति।

प्रश्न 3 – ‘क’ स्तम्भे पदानि, ‘ख’ स्तम्भे तेषां पर्यायपदानि दत्तानि। तानि चित्वा पदानां समक्षे लिखत:-

‘क’ स्तम्भः      –    ‘ख’ स्तम्भः

सरस्वती     –       तीरे
आम्रम्        –    अलीनाम्
पवनः         –      समीरः
तटे            –      वाणी
भ्रमराणाम्  –      रसाल:

उत्तराणि:-    

सरस्वती    –    वाणी
आम्रम्     –    रसाल:
पवनः      –    समीरः
तटे        –    तीरे
भ्रमराणाम्    –  अलीनाम्

प्रश्न 4 – अधोलिखितानि पदानि प्रयुज्य संस्कृतभाषया वाक्यरचनां कुरुत –

निनादयमन्दमन्दम्मारुतः सलिलम्

उत्तराणि:-

(क) – हे वाणि! त्वं स्ववीणां निनादय।

(ख) मन्दमन्दम् – तत्र मन्दमन्दम् पवन: वहति।

(ग) मारुतः – पर्वतेषु अहर्निशम् मारुतः प्रवहति।

(घ) सलिलम् – सलिलं तव वीणामाकर्ण्य सलीलम् उच्चलेत्।

(ङ) सुमनः – सुमनः धरायाः शृङ्गारः भवति।

प्रश्न 5 – प्रथमश्लोकस्य आशयं हिन्दीभाषया आङ्ग्लभाषया वा लिखत:-

उत्तराणि:-

हिन्दी भाषायाम् – हे सरस्वती आप अपनी नवीन वीणा को बजाओ। आप सुंदर नीति से लीन मीठे गीत गाइए। वसंत ऋतु में मीठे आम के फूलों की पीले रंग की पंक्तियों से और कोयलों की सुंदर ध्वनि वाले यहां मधुर आम के पेड़ो की शोभा पाते है।

प्रश्न 6 – अधोलिखितपदानां विलोमपदानि लिखत

उत्तराणि:-

  • कठोराम् – कोमलम्
  •  कटु – मधुरम्
  •  शीघ्रम् – मन्दमन्दम्
  • प्राचीनम् – नवीनम्
  •  नीरसः – सरसः

आपको एनसीईआरटी समाधान कक्षा 9 संस्कृत पाठ 1 भारतीवसन्तगीतिः प्राप्त करके कैसा लगा?, हमें अपना सुझाव जरूर दें। आप हमारी वेबसाइट से सभी विषयों की एनसीईआरटी की पुस्तकें भी प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही एनसीईआरटी समाधान भी प्राप्त कर सकते हैं।

कक्षा 9 संस्कृत के अन्य पाठ यहाँ से देखें

Leave a Reply