एनसीईआरटी समाधान कक्षा 9 सामाजिक विज्ञान भूगोल अध्याय 4 जलवायु

Photo of author
PP Team

छात्र इस आर्टिकल के माध्यम से कक्षा 9 सामाजिक विज्ञान पाठ 4 जलवायु के प्रश्न उत्तर प्राप्त कर सकते हैं। कक्षा 9 भूगोल पाठ 4 के प्रश्न उत्तर पूरी तरह से मुफ्त है। कक्षा 9 भूगोल अध्याय 4 Question and Answer के लिए छात्रों से किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जायेगा। कक्षा 9 भूगोल अध्याय 4 के प्रश्न उत्तर (class 9 Geography chapter 4 questions and answer) से परीक्षा की तैयारी अच्छे से कर सकते हैं। हमने आपके लिए ncert solutions for class 9 Geography chapter 4 in hindi सीबीएसई सिलेबस को ध्यान में रखकर बनाया है। कक्षा 9 भूगोल के लिए एनसीईआरटी समाधान (ncert solutions for Geography class 9) नीचे देखें।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 9 सामाजिक विज्ञान भूगोल अध्याय 4 जलवायु

देखा गया है कि छात्र कक्षा 9 जलवायु के प्रश्न उत्तर के लिए बाजार में मिलने वाली गाइड पर काफी पैसा खर्च कर देते हैं। लेकिन आप इस आर्टिकल के माध्यम से kaksha 9 bhugol prashn uttar पूरी तरह से ऑनलाइन माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। हमने आपके लिए आसान भाषा में कक्षा 9 वीं भूगोल अध्याय 4 नोट्स (class 9 bhugol chapter 4 notes in hindi) तैयार किए हैं। एनसीईआरटी समाधान कक्षा 9 भूगोल अध्याय 4 जलवायु (class 9th geography chapter 4 question answer in hindi) नीचे पढ़ें।

अध्याय-4
जलवायु

1. नीचे दिए गए चार विकल्पों में से सही उत्तर चूने।

(i) नीचे दिए गए स्थानों में किस स्थान पर विश्व में सबसे अधिक वर्षा होती है?

(क) सिलचर (ख) चेरापूंजी (ग) मासिनराम (घ) गुवाहाटी

उत्तर – मासिनराम

(ii) ग्रीष्म ऋतु में उत्तरी मैदानों में देश में बहने वाली पवन को निम्नलिखित में से क्या कहा जाता है?

(क) काल वैशाखी, (ख) व्यापारिक पवनें, (ग) लू, (घ) इनमें से कोई नहीं

उत्तर – लू

(iii) निम्नलिखित में से कौन – सा कारण भारत के उत्तर – पश्चिम भाग में शीत ऋतु में होने वाली वर्षा के लिए उत्तरदायी है

(क) चक्रवर्ती अवदाब (ख) पश्चिमी विक्षोभ (ग) मानसून की वापसी (घ) दक्षिण – पश्चिम मानसून

उत्तर – पश्चिमी विक्षोभ

(iv) भारत में मानसून का आगमन निम्नलिखित में से कब होता है –

(क) मई के प्रारंभ में (ख) जून के प्रारंभ में (ग) जुलाई के प्रारंभ में (घ) अगस्त के प्रारंभ में

उत्तर – जून के प्रारंभ में

(v) निम्नलिखित में से कौन – सी भारत में शीत ऋतु की विशेषता है?

(क) गर्म दिन एवं गर्म रातें (ख) गर्म दिन एवं ठंडी रातें (ग) ठंडा दिन एवं ठंडी रातें (घ) ठंडा दिन एवं गर्म रातें

उत्तर – गर्म दिन एवं ठंडी रातें

2. निम्न प्रश्नों के उत्तर संक्षेप में दीजिए।

(i) भारत की जलवायु को प्रभावित करने वाले कौन- कौन से कारक हैं?

उत्तर – भारत की जलवायु को प्रभावित करने वाले निम्नलिखित कारक है –

अक्षांश, ऊंचाई, वायुदाब एवं पवने।

(ii) भारत में मानसूनी प्रकार की जलवायु क्यों है?

उत्तर – भारत की जलवायु मानसूनी पवनों से बहुत अधिक प्रभावित है। ऐतिहासिक काल में भारत आने वाले नाविकों ने सबसे पहले मानसून पर इस घटना पर ध्यान दिया था। पवन तंत्र की दिशा उलट जाने के कारण उन्हें लाभ हुआ। उनके जहाज पवन के प्रभाव की दिशा पर निर्भर थे।

 मानसून की प्रक्रिया को समझने के लिए निम्नलिखित तत्व महत्वपूर्ण हैं –

  1. स्थल तथा जल के गर्म एवं ठंडे होने की विभेदी प्रक्रिया के कारण भारत के स्थल भाग पर निम्न दाब का क्षेत्र उत्पन्न होता है, जबकि इसके आस-पास के समुद्रों के ऊपर उच्च दाब का क्षेत्र बनता है।
  2. ग्रीष्म ऋतु के दिनों में अत: उष्ण कटिबंधीय अभिसरण क्षेत्र की स्थिति गंगा के मैदान की ओर खिसक जाती है ( यह विषुवतीय गर्त है, जो प्राय: विशुवत वृत से 5° उत्तर में स्थित होता है। इसे मानसून ऋतु में मानसून गर्त के नाम से भी जाना जाता है।
  3. हिंद महासागर में मेडागास्कर के पूर्व लगभग 20°दक्षिण आकांक्षा के ऊपर उच्च दाब वाला क्षेत्र होता है। इस उच्च दाब वाले क्षेत्र की स्थिति एवं तीव्रता भारतीय मानसून को प्रभावित करती है।
  4. ग्रीष्म ऋतु में, तिब्बत का पठार बहुत अधिक गर्म हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप पठार के ऊपर समुद्र तल से लगभग 9 किलोमीटर की ऊंचाई पर तीव्र ऊध्वर्द्धर वायु धाराओं एवं उच्च दाब का निर्माण होता है।
  5. ग्रीष्म ऋतु में हिमालय के उत्तर – पश्चिमी जेट धाराओं का तथा भारतीय प्रदीप के ऊपर उष्णकटिबंधीय पूर्वी जेट धाराओं का प्रभाव होता है।

इसके अतिरिक्त, दक्षिणी महासागरों के ऊपर दाब की अवस्थाओं में परिवर्तन भी मानसून को प्रभावित करता है।

(iii) भारत के किस भाग में दैनिक तापमान अधिक होता है एवं क्यों?

उत्तर – भारत के मरुस्थल (राजस्थान) के भाग में दैनिक तापमान अधिक होता है, क्योंकि यहां रेत अपने आप गर्म हो जाता जिससे तापमान और अधिक बढ़ जाता है।

(iv) किन पवनों के कारण मालाबार तट पर वर्षा होती है?

उत्तर – दक्षिण-पश्चिम पवनों के कारण मालाबार तट पर वर्षा होती है।

(v) जेट धाराएं क्या हैं तथा वे किस प्रकार भारत की जलवायु को प्रभावित करती हैं?

उत्तर – जेट धाराएं लगभग 27° से 30° उत्तर आकांक्षाओं के बीच स्थित होती है, इसलिए इन्हें उपोष्ण कटिबंधीय पश्चिमी जेट धाराएं कहा जाता है। भारत में, ये जेट धाराएं ग्रीष्म ऋतु को छोड़कर पूरे वर्ष हिमालय के दक्षिण में प्रभावित होती हैं। इस पश्चिमी प्रभाव के द्वारा देश के उत्तर एवं उत्तर-पश्चिमी भाग में पश्चिमी चक्रवाती विक्षोभ आते हैं। गर्मियों में, सूर्य की आभासी गति के साथी उपोषण कटिबंधीय पश्चिमी जेट धारा हिमालय के उत्तर में चली जाती है। एक पूर्वी जेट धारा जिसे उपोष्ण कटिबंधीय पूर्वी धारा कहा जाता है, गर्मी के महीनों में प्रायद्वीपीय भारत के ऊपर लगभग 14° उत्तरी आकांक्षा में प्रभावित होती है।

(vi) मानसून को परिभाषित करें। मानसून में विराम से आप क्या समझते हैं?

उत्तर – मानसून शब्द की व्युत्पत्ति अरबी शब्द ‘ मौसिम’ से हुई है, जिसका शाब्दिक अर्थ है- मौसम।

मानसून का अर्थ, एक वर्ष के दौरान वायु की दिशा में ऋतु के अनुसार परिवर्तन है।

मानसून से संबंधित एक अन्य परिघटना है, ‘वर्षा में विराम’। इस प्रकार, इसमें आर्द्र एवं शुष्क दोनों तरह के अंतराल होते हैं। दूसरे शब्दों में, मानसूनी वर्षा एक समय में कुछ दिनों तक ही होती है। इनमें वर्षा रहित अंतराल भी होते हैं। मानसून में आने वाले ये विराम मानसूनी गर्त की गति से संबंधित होते हैं। विभिन्न कारणों से गर्त एवं इसका अक्ष उत्तर या दक्षिण की ओर खिसकता रहता है, जिसके कारण वर्षा का स्थानिक वितरण सुनिश्चित होता है।

(vii) मानसून को एक सूत्र में बांधने वाला क्यों समझा जाता है?

उत्तर – मानसूनी पवने की वजह से कृषि को जल प्राप्त होता है।

भारत जैसे देश में सभी मानसून का बेसब्री से इंतजार करते हैं।

मानसून अपने साथ बहुत सारे त्यौहार लेकर आता है।

इसलिए मानसून को एक सूत्र में बांधने वाला कहा जाता है।

3. उत्तर – भारत में पूर्व से पश्चिम की ओर वर्षा की मात्रा क्यों घटती जाती है?

उत्तर – मानसून भारतीय प्रायद्वीप के दक्षिणी छोर से प्रवेश करता है। इसके बाद यह दो भागों में बढ़ जाता है – अरब सागर शाखा एवं बंगाल की खाड़ी शाखा। अरब सागर शाखा लगभग दस दिन बाद, 10 जून के आस – पास मुंबई पहुंचती है यह एक तीव्र प्रगति है। बंगाल की खाड़ी शाखा भी तीव्रता से आगे की ओर बढ़ती है तथा जून के प्रथम सप्ताह में असम पहुंच जाती है। ऊंचे पर्वतों के कारण मानसून पवने पश्चिम में गंगा के मैदान की ओर मुड़ जाती है। शाखा एवं बंगाल की खाड़ी शाखा दोनों गंगा के मैदान के उत्तर पश्चिम भाग में आपस में मिल जाती हैं। जैसे-जैसे ये पवनों पश्चिम की तरफ जाती है वैसे वैसे ही इन पवनों कि अर्द्ता कम होती जाती है। इसलिए उत्तर भारत में पूर्व से पश्चिम की ओर वर्षा की मात्रा घटती जाती है।

4. कारण बताएं।

(i) भारतीय उपमहाद्वीप में वायु की दिशा में मौसमी परिवर्तन क्यों होता है।

उत्तर – भारतीय उपमहाद्वीप में वायु की दिशा में मौसमी परिवर्तन इसलिए होता है क्योंकि हिमालय के उत्तर में उच्च दाब होता है, इस क्षेत्र में ठंडी हवाएं शुष्क दक्षिण में निम्न दाब वाले क्षेत्र के ऊपर बहती हैं इसके कारण गर्मी के दिनों में वायु की दिशा पूरी तरह से परिवर्तित हो जाती है।

(ii) भारत में अधिकतम वर्षा कुछ ही महीनों में होती है।

उत्तर – देश के अधिकतर भागों में जून से सितंबर तक वर्षा होती है, लेकिन कुछ क्षेत्र में जैसे तमिलनाडु तट पर सबसे अधिक वर्षा अक्टूबर और नवंबर के महीने में होती है।

(iii) तमिलनाडु तट पर शीत ऋतु में वर्षा होती है।

उत्तर – इस ऋतु में, देश में उत्तर – पूर्वी व्यापारिक पवने प्रवाहित होती हैं। ये स्थल से समुद्र की ओर बहती हैं तथा इसलिए देश के अधिकतर भाग में शुष्क मौसम होता है। इन पवनों के कारण कुछ मात्रा में वर्षा तमिलनाडु के तट पर होती है, क्योंकि वहां ये पवने समुद्र से स्थल की ओर बहती हैं।

(iv) पूर्वी तट की डेल्टा वाले क्षेत्र में प्राय: चक्रवाद आते हैं?

उत्तर – नवंबर के प्रारंभ में, उत्तर-पश्चिम भारत के ऊपर निम्न दाब वाली अवस्था बंगाल की खाड़ी पर स्थानांतरित हो जाती है। यह स्थानांतरण चक्रवर्ती निम्न दाब से संबंधित होता है, जो कि अंडमान सागर के ऊपर उत्पन्न होता है। ये चक्रवात सामान्यत: भारत के पूर्वी तट को पार करते हैं, जिनके कारण व्यापक एवं भारी वर्षा होती है। ये उष्णकटिबंधीय चक्रवात प्राय: विनाशकारी होते हैं। गोदावरी, कृष्णा एवं कावेरी नदियों के संघन आबादी वाले डेल्टा प्रदेशों में अक्सर चक्रवाद आते हैं, जिसके कारण बड़े पैमाने पर जान एवं माल की हानि होती है। कभी-कभी यह चक्रवात उड़ीसा, पश्चिम बंगाल एवं बांग्लादेश के तटीय क्षेत्र में भी पहुंच जाते हैं।

(v) राजस्थान, गुजरात के कुछ भाग तथा पश्चिमी घाट का वृष्टि छाया क्षेत्र सूखा प्रभावित क्षेत्र है।

उत्तर – राजस्थान, गुजरात के कुछ भाग तथा पश्चिमी घाट का वृष्टि छाया क्षेत्र सबसे अधिक सूखा से प्रभावित क्षेत्र माना जाता है। क्योंकि मानसूनी पवने जब तक इन क्षेत्रों में पहुंचती हैं तब तक इनकी आर्द्रता समाप्त हो गई होती है। ये पवनविमुख ढाल पर स्थित है इसलिए यहां वर्षा बहुत कम होती है।

5. भारत की जलवायु अवस्थाओं की क्षेत्रीय विभिन्नताओं को उदाहरण सहित समझाएं।

उत्तर – मानसूनी जलवायु की विशेषता एक विशिष्ट मौसमी प्रतिरूप होता है। एक ऋतु से दूसरे ऋतु में मौसम की अवस्थाओं में बहुत अधिक परिवर्तन होता है। विशेषकर देश के आंतरिक भागों में, ये परिवर्तन अधिक मात्रा में परिलक्षित होते हैं। तटीय क्षेत्रों के तापमान में बहुत अधिक भिन्नता नहीं होती है, यद्यपि यहां वर्षा के प्रारूप में भिन्नताएं होती हैं। शीत ऋतु मध्य नवंबर से आरंभ होकर फरवरी तक रहती है। भारत के उत्तरी भाग में दिसंबर एवम जनवरी सबसे ठंडे महीने होते हैं। ग्रीष्म ऋतु मार्च से मई तक भारत में ग्रीष्म ऋतु होती है। वर्षा ऋतु जून के प्रारंभ में उत्तरी मैदानों में निम्न दाब की अवस्था तीव्र हो जाती है। भारत में उत्तर – पूर्वी व्यापारिक पवने प्रवाहित होती है, इसके कारण वर्षा तमिलनाडु के तट पर होती है।

6. मानसून अभिक्रिया की व्याख्या करें।

उत्तर – स्थल तथा जल के गर्म एवं ठंडे होने की विभेदी प्रक्रिया के कारण भारत के स्थल भाग पर निम्न दाब का क्षेत्र उत्पन्न होता है, जबकि इसके आस – पास के समुद्रों के ऊपर उच्च दाब का क्षेत्र बनता है। ग्रीष्म ऋतु के दिनों में अत: उष्ण कटिबंधीय अभिसरण क्षेत्र की स्थिति गंगा के मैदान की ओर खिसक जाती है ( यह विषुवतीय गर्त है, जो प्राय: विशुवत वृत से 5° उत्तर में स्थित होता है। इसे मानसून  ऋतु में मानसून गर्त के नाम से भी जाना जाता है।)

हिंद महासागर में मेडागास्कर के पूर्व लगभग 20°दक्षिण आकांक्षा के ऊपर उच्च दाब वाला क्षेत्र होता है। इस उच्च दाब वाले क्षेत्र की स्थिति एवं तीव्रता भारतीय मानसून को प्रभावित करती है।ग्रीष्म ऋतु में, तिब्बत का पठार बहुत अधिक गर्म हो जाता है, जिसके परिणामस्वरूप पठार के ऊपर समुद्र तल से लगभग 9 किलोमीटर की ऊंचाई पर तीव्र  ऊध्वर्द्धर वायु धाराओं एवं उच्च दाब का निर्माण होता है।

ग्रीष्म ऋतु में हिमालय के उत्तर – पश्चिमी जेट धाराओं का तथा भारतीय प्रदीप के ऊपर उष्णकटिबंधीय पूर्वी जेट धाराओं का प्रभाव होता है।

7. शीत ऋतु की अवस्था एवं उसकी विशेषताएं बताएं।

उत्तर – उत्तरी भारत में शीत ऋतु मध्य नवंबर से आरंभ होकर फरवरी तक रहती है।

2) भारत के उत्तरी भाग में दिसंबर से जनवरी सबसे ठंडे महीने होते हैं।

3) तापमान दक्षिण से उत्तर की ओर बढ़ने पर घटता जाता है।

4) इस ऋतु में देश में उत्तर पूर्वी व्यापारिक प्रवाहित होती हैं।

5) शीत ऋतु में दिन गर्म और रातें ठंडी होती है।

8. भारत में होने वाले मानसूनी वर्षा एवं उसकी विशेषताएं बताएं।

उत्तर – 1. मानसून अनिश्चित होता है।

2. भारत के विभिन्न भागों में होने वाली वर्षा में भिन्नता पाया जाता है।

3. भारत के हर क्षेत्र में मानसून अलग-अलग होता है।

4. मानसून और ग्रीष्म के मानसून के समय में अंतर होता है।

5. मानसून की वजह से भारत में हमेशा ही कभी बाढ़ तो, कभी सूखा, जैसी समस्याओं से जूझना पड़ता है।

हम आशा करते हैं कि आपको हमारे द्वारा लिखा आर्टिकल जरूर पसंद आया होगा। कक्षा 9 जलवायु के प्रश्न उत्तर (class 9 bhugol chapter 4 question answer) के माध्यम से अपने जलवायु के नोट्स (jalvayu notes in hindi) भी तैयार कर लिए होंगे। हमें अपना बहुमूल्य कमेंट जरूर करें। इसके अलावा आप कक्षा 9 के अन्य विषयों के एनसीईआरटी समाधान यहां से देख सकते हैं। साथ ही कक्षा 9 सामाजिक विज्ञान विषय की एनसीईआरटी पुस्तक भी यहां से प्राप्त कर सकते हैं।

कक्षा 9 सामाजिक विज्ञान के इतिहास, राजनीति विज्ञान, अर्थशास्त्र के प्रश्न उत्तरयहां से देखें

2 thoughts on “एनसीईआरटी समाधान कक्षा 9 सामाजिक विज्ञान भूगोल अध्याय 4 जलवायु”

Leave a Reply