Join WhatsApp

Join Now

Join Telegram

Join Now

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण (Speech On Independence Day In Hindi)

Photo of author
PP Team
updated on

हमारा देश वीरों का देश है जिन्होंने इसे आज़ाद करवाने के लिए अपने प्राणों की आहुति हंसते-हंसते दे दी। हिंदुस्तान उनके इस बलिदान को हमेशा याद रखेगा। हर साल हम स्वतंत्रता दिवसपर देश के लिए शहीद हुए जवानों और स्वतंत्रता सेनानियों को याद करते हैं और इस बात पर गौरवान्वित महसूस करते हैं कि हमारा भी जन्म भारत जैसे देश में हुआ। आज़ादी के पर्व 15 अगस्त (15 August) के अवसर पर लोग अपने विचारों को स्वतंत्रता दिवस पर स्पीच देकर लोगों के सामने प्रस्तुत करते हैं।

हमारी इस 15 अगस्त पर स्पीच को पढ़कर और याद करने के बाद आप अपना भी 15 अगस्त पर भाषण तैयार कर सकते हैं। आपको बता दें कि इस पर नीचे दी गई Independence Day Par Speech In Hindi आसान शब्दों में लिखी गई है, जिसे स्कूल में पढ़ने वाले विद्यार्थी से लेकर एक रिटायर्ड बुजुर्ग तक बड़े ही सरल तरीके से पढ़कर बोल सकते हैं।

भाषण की शुरुआत

सभागार में मौजूद सभी भारतवासियों को मेरा कोटि-कोटि प्रणाम! आज का दिन हम सभी के लिए बेहद ही खास है, क्योंकि आज हम देश की आज़ादी के गर्व का पर्व स्वतंत्रता दिवस का जश्न मना रहे हैं। यूं तो हम हर साल ही आज़ादी का ये त्योहार बड़ी ही खुशी और उमंग के साथ मनाते हुए आ रहे हैं और मैं आशा करता हूं कि हमारी आने वाली पीढ़ियां भी स्वतंत्रता के इस पर्व को इसी तरह से ही जारी रखेंगी। लेकिन क्या हमने कभी स्वतंत्रता का वास्तविक अर्थ जानने की कोशिश की है या इसके बारे में कभी सोचा है? क्या हमने कभी ये समझने की कोशिश की है कि स्वतंत्रता दिवस तो हम हर साल हर्षोल्लास के साथ मनाते हैं लेकिन क्या स्वतंत्रता दिवस बस अब एक औपचारिकता मात्र बनकर रह गया है?

ये भी पढ़ें

स्वतंत्रता दिवस पर निबंधयहाँ से पढ़ें
स्वतंत्रता दिवस पर भाषणयहाँ से पढ़ें
स्वतंत्रता दिवस पर कविताएंयहाँ से पढ़ें
आज़ादी का अमृत महोत्सव पर निबंधयहाँ से पढ़ें
भारत का राष्ट्रगानयहाँ से पढ़ें

अपने विचारों की प्रस्तुति

15 अगस्त हो या 26 जनवरी, अब तो ऐसा लगता है जैसे मानो हमारी देशभक्ति केवल इन्हीं दो दिनों के लिए जागती है और फिर कहीं पर चैन की नींद सो जाती है। मेरी बात या मेरे विचारों से शायद आप लोग असहमत हों लेकिन हमें इन सभी सवालों के जवाब कहीं न कहीं से ढूँढने होंगे ताकि देशभक्ति की जो भावना है वह हमारे मन के भीतर एक सच्चे देशभक्त और एक सच्चे सैनिक की तरह हमेशा जागृत रहे।

स्वतंत्रता का अर्थ शायद हम सभी के लिए अलग-अलग हो लेकिन किसी स्वतंत्रता सैनानी या किसी सैनिक के लिए स्वतंत्रता का अर्थ एक ही होगा। स्वतंत्रता का वास्तविक अर्थ स्वतंत्रता सैनानी और सैनिक से अच्छा न तो कोई नहीं समझ सकता है और न ही कोई समझा सकता है। हमारे देश के स्वतंत्रता सैनानियों ने कड़ी तपस्या के बाद देश को आज़ाद करवाया, हमारे देश के वीर सैनिकों ने अपना लहु बहाकर देश की स्वतंत्रता की रक्षा की और हम स्वतंत्रता के नाम पर मनमानी करते हुए नज़र आ रहे हैं।

हम में से ज़्यादातर लोग ऐसे हैं जिनका जन्म स्वतंत्र भारत में हुआ है और परतंत्रता को केवल इतिहास के पन्नों में ही पढ़ा है। जब हमने परतंत्रता को सहा ही नहीं है, तो फिर हम स्वतंत्रता के सही अर्थ को कैसे समझेंगे। स्वतंत्रता का सही अर्थ और उसका महत्त्व केवल वो व्यक्ति ही समझ सकता है, जिसने परतंत्रता के मंजर को अपनी आँखों से साक्षात देखा हो। स्वतंत्रता के बाद जन्म लेने वाले लोगों को तो इस बात पर गर्व महसूस करना चाहिए कि वो कितने भाग्यशाली हैं कि उनका जन्म एक ऐसी धरती पर हुआ है जिसकी मिट्टी में न जानें कितनों वीरों का लहू मिला हुआ है। इसीलिए हमें हमारे स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान को किसी एक दिन नहीं बल्कि हमेशा याद करना चाहिए। पूरी तरह से आज़ादी हमें तब मिली जब हमें हमारा संविधान मिला। वो संविधान जिसकी वजह से आज हम हर तरह से स्वतंत्र हैं।

सन् 1857 से सन् 1947 तक हमारे देश के महान नेताओं, स्वतंत्रता सेनानियों और वीर जवानों ने न जानें कितने विद्रोह और बलिदानों बहुत करीब से देखा है। हमें अपने स्वतंत्रता सेनानियों महात्मा गांधी, भगत सिंह और चंद्रशेखर आजाद से लेकर उन लाखों लोगों के बलिदानों को कभी नहीं भूलना चाहिए, जिनके हमें नाम तक भी नहीं पता हैं लेकिन उन्होंने भारत को अंग्रेज़ों के औपनिवेशिक शासन से मुक्त कराने के लिए कड़ा संघर्ष किया और देश का पूरा साथ दिया। स्वतंत्रता दिवस उनके इसी बलिदान और जीत का उत्सव है। स्वतंत्रता दिवस उत्सव है उनके सम्मान का जिन्होंने खुद को मिटाकर इस देश को बनाया है।

समापन

शायर फ़िराक़ गोरखपुरी की दो पंक्तियों के साथ मैं अपनी वाणी को विराम देना चाहूंगा, कि

लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है,
उछल रहा है ज़माने में नाम-ए-आज़ादी

मुझे इतनी तसल्ली से सुनने के लिए आप सभी का बेहद शुक्रिया और बहुत-बहुत धन्यवाद। आप सभी को आज़ादी के पर्व की बहुत-बहुत शुभकामनाएं और बधाई।

जय हिंद जय भारत !

FAQs

People also ask

प्रश्न- 15 अगस्त का भाषण कैसे दें?
उत्तरः 15 अगस्त का भाषण पूरे आत्मविश्वास और जोश के साथ दें।

प्रश्न- आजादी को कितने साल हो गए 2023?
उत्तरः 15 अगस्त 2023 को देश आजादी की 76वीं वर्षगांठ के साथ आज़ादी के अमृत महोत्सव का समापन हो रहा है।

प्रश्न- स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस में क्या अंतर है?
उत्तरः स्वतंत्रता दिवस देश के आज़ाद होने की खुशी में मनाया जाता है जबकि गणतंत्र दिवस संविधान लागू होने के उपलक्ष में मनाया जाता है।

प्रश्न- 15 अगस्त को हिंदी में क्या कहते हैं?
उत्तरः स्वतंत्रता दिवस।

प्रश्न- 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस क्यों मनाया जाता है?
उत्तरः 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस इसलिए मनाया जाता है क्योंकि इसी दिन सन् 1947 को हमें अंग्रेज़ों से आज़ादी मिली थी।

अन्य विषयों पर भाषण पढ़ने के लिएयहाँ क्लिक करें

Leave a Reply