एनसीईआरटी समाधान कक्षा 10 हिन्दी स्पर्श अध्याय 10 तताँरा वामीरो कथा

Photo of author
Ekta Ranga

हम इस आर्टिकल के माध्यम से आपके लिए कक्षा 10वीं हिन्दी स्पर्श अध्याय 10 के एनसीईआरटी समाधान लेकर आए हैं। यह कक्षा 10वीं हिन्दी स्पर्श के प्रश्न उत्तर सरल भाषा में बनाए गए हैं ताकि छात्रों को कक्षा 10वीं स्पर्श अध्याय 10 के प्रश्न उत्तर समझने में आसानी हो। यह सभी प्रश्न उत्तर पूरी तरह से मुफ्त हैं। इसके के लिए छात्रों से किसी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जायेगा। कक्षा 10वीं हिंदी की परीक्षा में अच्छे अंक प्राप्त करने के लिए नीचे दिए हुए एनसीईआरटी समाधान देखें।

Ncert Solutions For Class 10 Hindi Sparsh Chapter 10

कक्षा 10 हिन्दी के एनसीईआरटी समाधान को सीबीएसई सिलेबस को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। यह एनसीईआरटी समाधान छात्रों की परीक्षा में मदद करेगा साथ ही उनके असाइनमेंट कार्यों में भी मदद करेगा। आइये फिर कक्षा 10 हिन्दी स्पर्श अध्याय 10 तताँरा वामीरो कथा के प्रश्न उत्तर (Class 10 Hindi Sparsh Chapter 10 Question Answer) देखते हैं।

कक्षा : 10
विषय : हिंदी (स्पर्श भाग 2)
पाठ : 10 ताताँरा वामीरो (लीलाधर मंडलोई)

प्रश्न-अभ्यास

निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर एक-दो-पंक्तियों में दीजिए –

1. तताँरा-वामीरो कहाँ की कथा है?

उत्तर :- तताँरा-वामीरो अंडमान निकोबार द्वीप समुह की एक लोक कथा है।

2. वामीरो अपना गाना क्यों भूल गई?

उत्तर :- वामीरो अपना गाना इसलिए भूल गई क्योंकि समुद्र की ऊँची लहरों के चलते वह भीग गई थी। इसी वजह से उसने गाना बंद कर दिया।

3. तताँरा ने वामीरो से क्या याचना की?

उत्तर :- तताँरा ने वामीरो से कल फिर से उसी चट्टान पर मिलने की याचना की।

4. तताँरा और वामीरो के गाँव की क्या रीति थी?

उतर :- तताँरा और वामीरो के गाँव की रीति अनुसार शादी के लिए दो लोगों को एक ही गाँव का होना आवश्यक था।

5. क्रोध में तताँरा ने क्या किया?

उत्तर :- क्रोध में तताँरा ने अपनी तलवार निकाली और उसे पूरी शक्ति के साथ धरती में गाड़ दी। तलवार के धरती में जाते ही धरती के दो टुकड़े हो गए।

(क) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर (25-30 शब्दों में) दीजिए

1. तताँरा की तलवार के बारे में लोगों का क्या मत था?

उत्तर :- ताताँरा पारंपरिक पोशाक के साथ वह अपनी कमर में सदैव एक लकड़ी की तलवार बाँधे रहता। लोगों का मत था, बावजूद लकड़ी की होने पर, उस तलवार में अद्भुत दैवीय शक्ति थी। तताँरा अपनी तलवार को कभी अलग न होने देता । उसका दूसरों के सामने उपयोग भी न करता। किंतु उसके चर्चित साहसिक कारनामों के कारण लोग-बाग तलवार में अद्भुत शक्ति का होना मानते थे।

2. वामीरों ने तताँरा को बेरूखी से क्या जवाब दिया?

उत्तर :- वामीरो ने तताँरा को जवाब दिया – पहले बताओ! तुम कौन हो, इस तरह मुझे घूरने और इस असंगत प्रश्न का कारण ? अपने गाँव के अलावा किसी और गाँव के युवक के प्रश्नों का उत्तर देने को मैं बाध्य नहीं। यह तुम भी जानते हो। “

3. तताँरा-वामीरो की त्यागमयी मृत्यु से निकोबार में क्या परिवर्तन आया?

उत्तर :- तताँरा-वामीरो की त्यागमयी मृत्यु से निकोबार में दूसरे गांव के लोग से वैवाहिक संबंध स्थापित करने लगे।

4. निकोबार के लोग तताँरा को क्यों पसंद करते थे।

उत्तर :- तताँरा एक सुंदर और शक्तिशाली युवक रहा करता था। उसका नाम था तताँरा। निकोबारी उसे बेहद प्रेम करते थे। तताँरा एक नेक और मददगार व्यक्ति था। सदैव दूसरों की सहायता के लिए तत्पर रहता । अपने गाँववालों को ही नहीं, अपितु समूचे द्वीपवासियों की सेवा करना अपना परम कर्तव्य समझता था। उसके इस त्याग की वजह से वह चर्चित था। सभी उसका आदर करते।

(ख) निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर (50-60 शब्दों में) दीजिए-

1. निकोबार द्वीप समूह के विभक्त होने के बारे में निकोबारियों का क्या विश्वास है?

उतर :- निकोबार द्वीप समूह के विभक्त होने के बारे में निकोबारियों में विश्वास है कि एक समय था जब अंडमान और निकोबार एक ही था। यह एक द्वीप था। लेकिन बाद में यह द्वीप दो भाग में बंट गया। इस द्वीप के दो भाग में बंटने का कारण है तताँरा और वामीरो की प्रेम कथा। तताँरा और वामीरो एक दूसरों को बहुत पसंद करते थे। लेकिन समाज के चलते वह एक दूसरे के ना हो पाए। तताँरा और वामीरो के विच्छेद में निकोबार द्वीप समूह विभक्त हो गया।

2. तताँरा खूब परिश्रम करने के बाद कहाँ गया? वहाँ के प्राकृतिक सौंदर्य का वर्णन अपने शब्दों में कीजिए।

उत्तर :- एक शाम तताँरा दिनभर के अथक परिश्रम के बाद समुद्र किनारे टहलने निकल पड़ा। सूरज समुद्र से लगे क्षितिज तले डूबने को था। समुद्र से ठंडी बयारें आ रही थीं। पक्षियों की सायंकालीन चहचहाहटें धीरे-धीरे कम होने को थीं। उसका मन शांत था। विचारों में डूबा हुआ तताँरा समुद्री बालू पर बैठकर सूरज की अंतिम रंग-बिरंगी किरणों को समुद्र पर निहारने लगा।

3. वामीरो से मिलने के बाद तताँरा के जीवन में क्या परिवर्तन आया?

उत्तर :- वामीरो से मिलने के बाद तताँरा का जीवन बहुत अजीब हो गया। तताँरा के दिन और रात बहुत ऊबाऊ हो गए थे। शाम की प्रतीक्षा थी। ततौरा के लिए मानो पूरे जीवन की अकेली प्रतीक्षा थी। उसके गंभीर और शांत जीवन में ऐसा पहली बार हुआ था। वह अचंभित था, साथ ही रोमांचित भी। दिन ढलने के काफ़ी पहले वह लपाती की उस समुद्री चट्टान पर पहुँच गया। वामीरो की प्रतीक्षा में एक-एक पल पहाड़ की तरह भारी था।

4. प्राचीन काल में मनोरंजन और शक्ति प्रदर्शन के लिए किस प्रकार के आयोजन किए जाते थे?

उत्तर :- प्रचीन काल में मनोरंजन और शक्ति प्रदर्शन के लिए लड़ाकू साँडों, शेर, पहलवानों की कुश्ती तलवार बाज़ी जैसे शक्ति प्रदर्शन के खेल होते थे। इनके अलावा तीतर, बटेर की लड़ाई, जानवरों की नुमाइश जैसे आयोजन किए जाते थे।

5. रूढ़ियाँ जब बंधन बन बोझ बनने लगें तब उनका टूट जाना ही अच्छा है। क्यों? स्पष्ट कीजिए।

उत्तर :- यह एकदम सही है कि जब बंधन बोझ बन जाए तो उनका टूट जाना ही हर चीज का समाधान है। क्योंकि इस दुनिया में रहने के लिए हानिकारक रूढ़ियों को तोड़ना बहुत जरूरी है। गलत रूढ़ियों के साथ आप अपने जीवन का निर्वाह नहीं कर सकते हैं।

(ग) निम्नलिखित का आशय स्पष्ट कीजिए –

1. जब कोई राह न सूझी तो क्रोध का शमन करने के लिए उसमें शक्ति भर उसे धरती में घोंप दिया और ताकत से उसे खींचने लगा।

उत्तर :- जब वामीरो की मां ने तताँरा का घोर अपमान किया तो यह उससे सहन नहीं हुआ। वामीरों का दुख उसे और गहरा कर रहा था। उसे मालूम न था कि क्या कदम उठाना चाहिए? अनायास उसका हाथ तलवार की मूठ पर जा टिका । क्रोध में उसने तलवार निकाली और कुछ विचार करता रहा। क्रोध लगातार अग्नि की तरह बढ़ रहा था। लोग सहम उठे। एक सन्नाटा सा खिंच गया। जब कोई राह न सूझी तो क्रोध का शमन करने के लिए उसमें शक्ति भर उसे धरती में घोंप दिया और ताकत से उसे खींचने लगा। वह पसीने से नहा उठा। सब घबराए हुए थे। वह तलवार को अपनी तरफ़ खींचते खींचते दूर तक पहुँच गया। वह हाँफ रहा था। अचानक जहाँ तक लकीर खिंच गई थी, वहाँ एक दरार हो गई। और धरती दो टुकड़ों में बंट गई।

2. बस आस की एक किरण थी जो समुद्र की देह पर डूबती किरणों की तरह कभी भी डूब सकती थी।

उत्तर :- जब से तताँरा ने वामीरो को देखा था तब से वह उसपर मोहित हो गया था। उसे हर पल वामीरो का ख्याल आता। क्योंकि वामीरो ने तताँरा से मिलने का आग्रह किया था इसलिए वह बेसब्री से उसका इंतजार करने लगा। अब जैसे-जैसे दिन बीत रहा था, उसकी बेचैनी उतनी ज्यादा बढ़ रही थी। सूरज के ढलने के साथ उसकी उम्मीद भी खत्म हुए जा रही थी।

भाषा अध्ययन

1. निम्नलिखित वाक्यों के सामने दिए कोष्ठक में (“का चिह्न लगाकर बताएँ कि वह वाक्य किस प्रकार का है

(क) निकोबारी उसे बेहद प्रेम करते थे। (प्रश्नवाचक, विधानवाचक, निषेधात्मक, विस्मयादिबोधक)

उत्तर :- निकोबारी उसे बेहद प्रेम करते थे।(विधानवाचक)

(ख) तुमने एकाएक इतना मधुर गाना अधूरा क्यों छोड़ दिया? (प्रश्नवाचक, विधानवाचक, निषेधात्मक, विस्मयादिबोधक)

उत्तर :- तुमने एकाएक इतना मधुर गाना अधूरा क्यों छोड़ दिया?  (प्रश्नवाचक)

(ग) वामीरो की माँ क्रोध में उफन उठी। (प्रश्नवाचक, विधानवाचक, निषेधात्मक, विस्मयादिबोधक

उत्तर :- वामीरो की माँ क्रोध में उफन उठी। (विधानवाचक)

(घ) क्या तुम्हें गाँव का नियम नहीं मालूम? (प्रश्नवाचक, विधानवाचक, निषेधात्मक, विस्मयादिबोधक)

उत्तर :- क्या तुम्हें गाँव का नियम नहीं मालूम? (प्रश्नवाचक)

(ङ) वाह! कितना सुदंर नाम है। (प्रश्नवाचक, विधानवाचक, निषेधात्मक, विस्मयादिबोधक)

उत्तर :- वाह! कितना सुदंर नाम है। (विस्मयादिबोधक)

(च) मैं तुम्हारा रास्ता छोड़ दूंगा। (प्रश्नवाचक, विधानवाचक, निषेधात्मक, विस्मयादिबोधक)

उत्तर :- मैं तुम्हारा रास्ता छोड़ दूंगा। (विधानवाचक)

2. निम्नलिखित मुहावरों का अपने वाक्यों में प्रयोग कीजिए -(क) सुध-बुध खोना

उत्तर :- अचानक हादसा होने की वजह से वह अपना सुध-बुध खो बैठी।

(ख) बाट जोहना

उत्तर :- मोहन अपनी मां की बाट जोहने लगा।

(ग) खूशी का ठिकाना न रहना

उत्तर :- उसने जैसे ही अपनी बिछड़ी हुई बेटी को देखा तो उसकी खुशी का ठिकाना ना रहा।

(घ) आग बबूला होना

उत्तर :- काम सही नहीं होते देख मीरा आग-बबूला हो उठी।

(ङ) आवाज़ उठाना

उत्तर :- बहुत सालों तक जुल्म सहने के बाद भारतीयों ने अंग्रेजों के खिलाफ अपनी आवाज उठाई।

3. नीचे दिए गए शब्दों में से मूल शब्द और प्रत्यय अलग करके लिखिए –

शब्द          मूल शब्द             प्रत्यय

चर्चित          …………..         …………..

साहसिक      …………..          ………….. 

छटपटाहट   ………….           …………..

शब्दहीन      …………..          ………….

उत्तर :-

शब्द          मूल शब्द       प्रत्यय

चर्चित           चर्चा            इत

साहसिक      साहस         इक

छटपटाहट     छटपट      आहट

शब्दहीन        शब्द          हीन

4. नीचे दिए गए शब्दों में उचित उपसर्ग लगाकर शब्द बनाइए –

……….. + आकर्षक =

……….………… + ज्ञात =

………………… + कोमल =

…………………. + होश =

………..………… + घटना = ………….

उत्तर :-

अन + आकर्षक = अनाकर्षक

अ + ज्ञात = अज्ञात

सु + कोमल = सुकोमल

बे + होश = बेहोश

दुर + घटना = दुर्घटना

5. निम्नलिखित वाक्यों को निर्देशानुसार परिवर्तित कीजिए-

(1) जीवन में पहली बार मैं इस तरह विचलित हुआ हूँ। (मिश्र वाक्य)

(2) फिर तेज़ कदमों से चलती हुई तताँरा के सामने आकर ठिठक गई। (संयुक्त वाक्य)

(3) वामीरो कुछ सचेत हुई और घर की तरफ दौड़ी। (सरल वाक्य)

(4) तताँरा को देखकर यह फूटकर रोने लगी। (संयुक्त वाक्य)

(5) रीति के अनुसार दोनों को एक ही गाँव का होना आवश्यक था। (मिश्र वाक्य)

उत्तर :-

(1) जीवन में ऐसा पहली बार हुआ है जब मैं विचलित हुआ हूँ।

(2) फिर तेज़ कदमों से चलती हुई आई और तताँरा के सामने आकर ठिठक गई।

(3) वामीरो कुछ सचेत होकर घर की तरफ़ दौड़ी।

(4) उसने तताँरा को देखा और वह फूटकर रोने लगी।

(5) रीति के अनुसार यह आवश्यक था कि दोनों एक ही गाँव के हों।

7. नीचे दिए गए शब्दों के विलोम शब्द लिखिए -भय, मधुर, सभ्य, मूक, तरल, उपस्थिति. सुखद।

उत्तर :-

भय   : अभय

मधुर :  कर्कश

सभ्य   :  असभ्य

मूक   :  वाचाल

तरल  :  ठोस

उपस्थिति :  अनुपस्थिति

दुखद :  सुखद

8. नीचे दिए गए शब्दों के दो-दो पर्यायवाची शब्द लिखिए -समुद्र, आँख, दिन, अँधेरा, मुक्त।

उत्तर :-

समुद्र : सागर, जलधि

आँख :  नेत्र, चक्षु

दिन : दिवस, वासर

अँधेरा : तम, अंधकार

मुक्त : आज़ाद, स्वतंत्र

आकंठ वह बहुत ही मधुर आकंठ से गीत गा रही थी।

10. किसी तरह आँचरहित एक ठंडा और ऊबाऊ दिन गुज़रने लगा वाक्य में दिन के लिएकिन-किन विशेषणों का प्रयोग किया गया है? आप दिन के लिए कोई तीन विशेषण और सुझाइए।

उत्तर :-

(क) ठंडा, ऊबाऊ

(ख) सुंदर, शुभ, ठंडा।

12. वाक्यों के रेखांकित पदबंधों का प्रकार बताइए

(क) उसकी कल्पना में वह एक अदभुत साहसी युवक था।

उत्तर :-  विशेषण पदबंध।

(ख) तताँरा को मानो कुछ होश आया।

उत्तर :- क्रिया पदबंध।

(ग) वह भागा-भागा वहाँ पहुँच जाता।

उत्तर :- क्रिया विशेषण पदबंध।

(घ) तताँरा की तलवार एक विलक्षण रहस्य थी।

उत्तर :- संज्ञा पदबंध।

(ङ) उसकी व्याकुल आँखें वामीरों को ढूंढने में व्यस्त थीं।

उत्तर :- संज्ञा पदबंध।

विद्यार्थियों को कक्षा 10वीं हिंदी अध्याय 10 तताँरा वामीरो कथा के प्रश्न उत्तर प्राप्त करके कैसा लगा? हमें अपना सुझाव कमेंट करके ज़रूर बताएं। कक्षा 10वीं हिंदी स्पर्श अध्याय 10 के लिए एनसीईआरटी समाधान देने का उद्देश्य विद्यार्थियों को बेहतर ज्ञान देना है। इसके अलावा आप हमारे इस पेज की मदद से सभी विषयों के एनसीईआरटी समाधान और एनसीईआरटी पुस्तकें भी प्राप्त कर सकते हैं।

 कक्षा 10 हिन्दी क्षितिजसंचयनकृतिका के समाधानयहाँ से देखें

Leave a Comment