एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान इतिहास अध्याय 3 आरंभिक नगर

Photo of author
PP Team

छात्र इस आर्टिकल के माध्यम से एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान इतिहास अध्याय 3 आरंभिक नगर प्राप्त कर सकते हैं। इस आर्टिकल पर कक्षा 6 हमारे अतीत -1 आरंभिक नगर चैप्टर का पूरा समाधान दिया हुआ है। ncert solutions class 6 social science history chapter 3 आरंभिक नगर पूरी तरह से मुफ्त है। छात्र कक्षा 6 इतिहास अध्याय 3 आरंभिक नगर प्रश्न उत्तर से परीक्षा की तैयारी बेहतर तरीके से कर सकते हैं। आइये फिर एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान इतिहास अध्याय 3 आरंभिक नगर नीचे देखते हैं।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान इतिहास अध्याय 3 आरंभिक नगर

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान इतिहास हमारे अतीत -1 का उदेश्य केवल अच्छी शिक्षा देना। यह एनसीईआरटी सलूशन कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान इतिहास अध्याय 3 आरंभिक नगर, राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसन्धान और प्रशिक्षण परिषद के सहायता से बनाए गए है।

कक्षा : 6
विषय : सामाजिक विज्ञान (इतिहास, हमारे अतीत -1)
अध्याय : 3– आरंभिक नगर (प्रश्न -उत्तर)

पाठ्यपुस्तक के आंतरिक प्रश्न

प्रश्न 1 – प्रायः पुरानी इमारतों को तोड़कर उनकी जगह नए भवन बनाए जाते हैं। क्या तुम्हें लगता है कि पुरानी इमारतों को सुरक्षित रखना चाहिए ?

उत्तर :- कई पुरानी ईमारतें ऐसी होती है जिससे हमारा अतीत, हमारा इतिहास जुड़ा होता है। हमारी खुद की, परिवार की कई यादें जुड़ी होती है तो हम स्वयम् यही चाहेगे की वो यादें हमसे हमेशा जुड़ी रहे। और आने वाले समय में हमारी पीढ़ियों से भी उन्हें परिचित करवाये, इसलिए ऐसी इमारतो को सुरक्षित रखना चहिए लेकिन कुछ पुरानी चीज़ जहाँ हमें एक प्यारी सी अनुभूति देती है उसी समय कुछ इमारते ऐसी होती है जिनके बारे में लोग अलग अलग बातें बताते है, भूतिया हवेली बताकर अन्धविश्वास फैलाते है तो ऐसी इमारतो को नष्ट करना और नए भवन का निर्माण करना ही उचित होता है।

प्रश्न 2 – आज भी मुहर का प्रयोग होता है। पता लगाओ कि मुहरों का उपयोग किसलिए किया जाता है।

उत्तर :- हड़प्पा सभ्यता के लोग मुहर बनाते थे। मुहरो का प्रयोग डिब्बो या थैलो को चिह्नित करने के लिए किया जाता था और आज भी कई जगह ऐसी है जहाँ मुहरो का प्रयोग दस्तावेज बनाने के लिए किया जाता है।

प्रश्न अभ्यास

आओ याद करें:-

प्रश्न 1 – पुरातत्त्वविदों को कैसे ज्ञात हुआ कि हड़प्पा सभ्यता के दौरान कपड़े का उपयोग होता था ?

उत्तर :- पुरातत्त्वविदों को 7000 साल पहले मेहरगढ़ में कपास की खेती किये जाने के प्रमाण मिले थे। उन्हें मोहनजोदड़ो में चाँदी का एक फूलदान और ताम्बे की कुछ अन्य वस्तुओ पर कपड़े के अवशेष भी प्राप्त हुए थे। पक्की मिट्टी से बनी तकलिया सूत क़ताई का संकेत देती है। मोहनजोदड़ो में एक पत्थर की मूर्ति भी मिली थी जिसमें उसे वस्त्र पहनाए हुए दिखाया गया था।

प्रश्न 2 – निम्नलिखित का सुमेल करो :

     ताम्बा           गुजरात

     सोना           अफगानिस्तान

     टिन             राजस्थान

     बहुमूल्य पत्थर     कर्नाटक

उत्तर :-  ताम्बा          राजस्थान

            सोना           कर्नाटक

            टिन           अफगानिस्तान

           बहुमूल्य पत्थर    गुजरात

प्रश्न 3 – हड़प्पा के लोगों के लिए धातुएँ, लेखन, पहिया और हल क्यों महत्त्वपूर्ण थे?

उत्तर :- हड़प्पा के लॉगो के लिए धातुएँ, लेखन, पहिया और हल कई कारणों से मह्त्वपूर्ण थे। इन चीजो को वोह दूर दूर से आयत करते थे। वे ताम्बे का आयात ज्यादातर राजस्थान से करते थे। धातुओ का प्रयोग बर्तन और आभूषण बनाने के लिए किया जाता था। उस समय हड़प्पा के लॉगो की अपनी ही एक विशेष लिपि होती थी। हड़प्पा से मिले अवशेषो में इस लिपि के बड़े बड़े अवशेषो को खुदा पाया गया है।इस प्रकार की लिपि मुहरो पर छिपी मिलती है। हड़प्पा के लोग पहिये कि सहायता से गाड़ियों को खीचते थे।वे इसकी सहायता से मिट्टी के बर्तनो को गोल करने का काम भी करते थे। ज़मीन की जुताई के लिए हल का प्रयोग एक नई बात थी। उस समय के हल तो नहीं बच पाए क्योंकि ये हल प्राय लकड़ी के बने होते थे। सिचाई के लिए हल का भी प्रयोग किया जाता था। पक्की मिट्टी से बने खिलोने बच्चों के खेलने के काम आते थे।

आओ चर्चा करें:-

प्रश्न 4 – इस अध्याय में पकी मिट्टी (टेराकोटा) से बने सभी खिलौनों की सूची बनाओ। इनमें से कौन-से खिलौने बच्चों को ज्यादा पसंद आए होंगे ?

उत्तर :- हड़प्पा के लॉगो ने पक्की मिट्टी के अनेक खिलोने बनाये थे। इन खिलौनो में खिलौना गाड़ी, खिलौना हल तथा पशु पक्षियो के नमूने प्रमुख थे। बच्चे भी इन खिलौनो को देखकर बहुत खुश होते थे उन्हें यह खिलोने बहुत पसंद आते थे। सबसे ज्यादा बच्चो को पशु पक्षियो के बने हुए नमूने  बहुत पसन्द होते थे। वे इसमें चिड़िया के आकार की सीटियां भी बनाते थे।

प्रश्न 5 – हड़प्पा के लोगों की भोजन सामग्री की सूची बनाओ। आज इनमें से तुम क्या-क्या खाते हो? निशान लगाकर बताओ।

उत्तर:-

प्रश्न 6 – हड़प्पा के किसानों और पशुपालकों का जीवन क्या उन किसानों से भिन्न था जिनके बारे में तुमने पिछले अध्याय में पढ़ा है? अपने उत्तर में इसका कारण बताओ।

उत्तर :- हड़प्पा सभ्यता एक नगर प्रधान सभ्यता थी। पहले के किसान और पशुपालक स्वयम् के उपभोग के लिए खेती का उत्पादन करते थे जबकि हड़प्पा में रहने वाले किसान और पशुपालक अन्य शिल्पकार के लिए खेती का उत्पादन करते थे। हड़प्पा के किसान क़ृषि उत्पादों को गाड़ियों के द्वारा भेजते थे जबकि पहले के किसान ऐसा नहीं करते थे और उनके पास ऐसी सुविधायेँ ना होने के बराबर थी।

प्रश्न 7 – अपने शहर या गाँव की तीन महत्त्वपूर्ण इमारतों का ब्यौरा दो। क्या वे बस्ती के महत्त्वपूर्ण इलाके में बनी हैं। इन इमारतों का उपयोग किसलिए किया जाता है ?

उत्तर :- विध्यार्थी अपने गांव या शहर के अनुसार करें।

प्रश्न 8 – तुम्हारे इलाके में क्या कोई पुरानी इमारत है? यह पता करो कि वह कितनी पुरानी है और उनकी देखभाल कौन करता है।

उत्तर:- विद्यार्थी स्वयं करें।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 इतिहास के सभी चैप्टर नीचे लिंक से प्राप्त करें

अध्याय संख्याअध्याय के नाम
1क्या, कब, कहाँ और कैसे
2आखेट – खाद्य संग्रह से भोजन उत्पादन तक
3आरंभिक नगर
4क्या बताती हैं हमें किताबें और कब्रें
5राज्य, राजा और एक प्राचीन गणराज्य
6नए प्रश्न नए विचार
7अशोकः एक अनोखा सम्राट जिसने युद्ध का त्याग किया
8खुशहाल गाँव और समृद्ध शहर
9व्यापारी, राजा और तीर्थयात्री
10नए साम्राज्य और राज्य
11इमारतें, चित्र तथा किताब

छात्रों को एनसीईआरटी समाधान कक्षा 6 सामाजिक विज्ञान इतिहास अध्याय 3 आरंभिक नगर प्राप्त करके काफी ख़ुशी हुई होगी। हमारा प्रयास है कि छात्रों को बेहतर ज्ञान दिया जाए। छात्र एनसीईआरटी पुस्तक या सैंपल पेपर आदि की अधिक जानकारी के लिए parikshapoint.com की वेबसाइट पर जा सकते हैं।

कक्षा 6 के भूगोल और नागरिक शास्त्र के एनसीईआरटी समाधानयहाँ से प्राप्त करें

Leave a Reply