Join WhatsApp

Join Now

Join Telegram

Join Now

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 10 राजनीति विज्ञान अध्याय 3 जाति धर्म और लैंगिक मसले

Photo of author
Ekta Ranga

आप इस आर्टिकल से कक्षा 10 राजनीति विज्ञान अध्याय 3 जाति, धर्म और लैंगिक मसले के प्रश्न उत्तर प्राप्त कर सकते हैं। जाति, धर्म और लैंगिक मसले के प्रश्न उत्तर परीक्षा की तैयारी करने में बहुत ही लाभदायक साबित होंगे। इन सभी प्रश्न उत्तर को सीबीएसई सिलेबस को ध्यान में रखकर बनाया गया है। कक्षा 10 राजनीति विज्ञान पाठ 3 के एनसीईआरटी समाधान से आप नोट्स भी तैयार कर सकते हैं, जिससे आप परीक्षा की तैयारी में सहायता ले सकते हैं। हमें बताने में बहुत ख़ुशी हो रही है कि यह सभी एनसीईआरटी समाधान पूरी तरह से मुफ्त हैं। छात्रों से किसी भी प्रकार का शुल्क नहीं लिया जायेगा।

Ncert Solutions For Class 10 Civics Chapter 3 In Hindi Medium

हमने आपके लिए जाति, धर्म और लैंगिक मसले के प्रश्न उत्तर को संक्षेप में लिखा है। इन समाधान को बनाने में ‘राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद’ की सहायता ली गई है। जाति, धर्म और लैंगिक मसले पाठ बहुत ही रोचक है। इस अध्याय को आपको पढ़कर और समझकर बहुत ही अच्छा ज्ञान मिलेगा। आइये फिर नीचे कक्षा 10 लोकतांत्रिक राजनीति अध्याय 3 के प्रश्न उत्तर (Class 10 Civics Chapter 3 Question Answer In Hindi Medium) देखते हैं।

प्रश्न 1 – जीवन के उन विभिन्न पहलुओं का जिक्र करें जिनमें भारत में स्त्रियों साथ भेदभाव होता है या वे कमजोर स्थिति में होती हैं।

उतर :- जीवन में ऐसे विभिन्न पहलू हैं जिनमें भारत में स्त्रियों साथ भेदभाव होता है या वे कमजोर स्थिति में होती हैं जैसे कि-

(1) हमारे देश कि महिलाओं कि साक्षरता दर आज भी पुरुषों के मुक़ाबले कम है।

(2) आज भी समाज में खुले आम बाल विवाह जैसी कुप्रथा चली जा रही है। समाज में महिलाओं को अपना वर चुनने का अधिकार भी नहीं है।

(3) कन्या भ्रूण हत्या भी की जाती है। लड़का और लड़की में भेदभाव किया जाता है।

(4) आज के समय में सभी स्वतंत्र होकर जीना चाहते हैं। सब अपनी मर्जी के अनुरूप काम करना चाहते हैं। लेकिन अगर यही एक महिला स्वतंत्र होकर जीना चाहे तो उसपर उंगली उठा दी जाती है।

प्रश्न 2 – विभिन्न तरह की सांप्रदायिक राजनीति का ब्यौरा दें और सबके साथ एक-एक उदाहरण भी दें।

उत्तर :- सांप्रदायिक राजनीति के विभिन्न रूप इस प्रकार हैं:

(1) भारत में कोई से ऐसे राज्य भी हैं जो भारत में होने वाले अनेकों आयोजनों में हिस्सा नहीं लेते हैं। इसका सबसे अच्छा उदाहरण है मिजोरम राज्य जहां पर योग दिवस को ज्यादा महत्व नहीं दिया जाता है।

(2) यह हम सभी जानते हैं कि भारत में कश्मीर जैसी भी एक जगह है जो कि अपना एक अलग देश चाहती है। इस क्षेत्र में आए दिन सांप्रदायिक दंगे हो ही जाते हैं। इसके पीछे सांप्रदायिक राजनीति का भी हाथ है।

(3) हमारे ही देश में अनेकों ऐसी पार्टियां हैं जो लोगों को धर्म के आधार पर बांटकर सांप्रदायिक दंगे तक करवा देती है।

प्रश्न 3 – बताइए कि भारत में किस तरह अभी भी जातिगत असमानाताएँ जारी हैं।

उत्तर :- भारत में आज भी जातिगत असमानताएँ जारी है जैसे कि –

(1) हमारे देश में आज भी लोग अंतरजातीय विवाह को सही नहीं मानते हैं। शहर से भी ज्यादा गाँव के निवासी अंतरजातीय विवाह को गलत ठहराते हैं।

(2) हमारे देश में लोगों को आरक्षण के आधार पर बाँट दिया गया है। एससी/एसटी,ओबीसी और जनरल जैसे वर्ग इस देश में आरक्षित है।

(3) छुआछूत जैसी मानसिक विकृति लोगों में आज भी व्यापत है।

प्रश्न 4 – दो कारण बताएँ कि क्यों सिर्फ़ जाति के आधार पर भारत में चुनावी नतीजे तय नहीं हो सकते हैं?

उत्तर :- यह एकदम सही है कि सिर्फ जाति के आधार पर भारत में चुनाव के परिणाम तय नहीं हो सकते हैं –

(1) भारत में आज तक ऐसा कभी भी नहीं हुआ कि एक ही जाति के लोगों ने एक ही विशेष पार्टी को वोट दिया हो।

(2) देश में यह भी देखने को मिलता है किसी भी एक संसदीय क्षेत्र से एक विशेष जाति का बहुमत हासिल नहीं हो सकता है।

प्रश्न 5 – भारत की विधायिकाओं में महिलाओं के प्रतिनिधित्व की स्थिति क्या है?

उत्तर :- यह देखने में आता है कि पूरी दुनिया में विधायकों में महिलाओं की प्रतिनिधित्व की स्थिति थोड़ी कमजोर ही है। पुरुष विधायकों की संख्या महिलाओं की तुलना में ज्यादा है। भारत में भी महिला विधायकों की स्थिति थोड़ी कमजोर है। लोकसभा में महिलाओं की संख्या 10% है। और अगर हम बात करें प्रांतीय विधानसभा की तो वह केवल 5% ही है। पूरी दुनिया में भारत की विधायिकाओं में महिलाओं के प्रतिनिधित्व की स्थिति थोड़ी कमजोर है। हालांकि अब थोड़ी स्थिति थोड़ी सुधरने लगी है। अब पंचायती राज और नगर पालिका में भी महिलाओं की संख्या बढ़ने लगी है।

प्रश्न 6 – किन्हीं दो प्रावधानों का जिक्र करें जो भारत को धर्मनिरपेक्ष देश बनाते हैं।

उत्तर :- दो प्रावधान ऐसे हैं जो भारत को धर्मनिरपेक्ष देश बनाते हैं:

(1) भारत का संविधान बहुत अच्छा है। हमारे देश का संविधान भारत में धर्म के आधार पर किसी को पक्षपात करने का अधिकार नहीं देता है।

(2) भारत में सभी लोगों को अपने धर्म को लेकर विचार व्यक्त करने की पूरी आजादी है।

प्रश्न 7 – जब हम लैंगिक विभाजन की बात करते हैं तो हमारा अभिप्राय होता है : 

(क) स्त्री और पुरुष के बीच जैविक अंतर

(ख) समाज द्वारा स्त्री और पुरुष को दी गई असमान भूमिकाएँ

(ग) बालक और बालिकाओं की संख्या का अनुपात 

(घ) लोकतांत्रिक व्यवस्थाओं में महिलाओं को मतदान का अधिकार न मिलना।

उत्तर :- (ग) बालक और बालिकाओं की संख्या का अनुपात।

प्रश्न 8 – भारत में यहाँ औरतों के लिए आरक्षण की व्यवस्था है:

(क) लोकसभा

(ख) विधानसभा

(ग) मंत्रिमंडल

(घ) पंचायती राज की संस्थाएँ

उत्तर :- (घ) पंचायती राज की संस्थाएँ।

प्रश्न 9 – साम्प्रदायिक राजनीति के अर्थ सम्बन्धी निम्नलिखित कथनों पर गौर करें। साम्प्रदायिक राजनीति इस धारणा पर आधारित है कि-

(अ) एक धर्म दूसरों से श्रेष्ठ है।

(ब) विभिन्न धर्मों के लोग समान नागरिक के रूप में खुशी-खुशी साथ रह सकते हैं। 

(स) एक धर्म के अनुयायी एक समुदाय बनाते हैं।

(द) एक धार्मिक समूह का प्रभुत्व बाकी सभी धर्मों पर कायम करने में शासन की शक्ति का प्रयोग नहीं किया जा सकता।

इनमें से कौन-कौन सा कथन सही है?

(क) अ, ब, स और द; (ख) अ, ब और द; (ग) अ और स; (घ) ब और द।

उत्तर :-  (ग) अ और स

प्रश्न 10 – भारतीय संविधान के बारे में इनमें से कौन-सा कथन गलंत है?

(क) यह धर्म के आधार पर भेदभाव की मनाही करता है। 

(ख) यह एक धर्म को राजकीय धर्म बताता है।

(ग) सभी लोगों को कोई भी धर्म मानने की आज़ादी देता है।

(घ) किसी धार्मिक समुदाय में सभी नागरिकों को बराबरी का अधिकार देता है।

उत्तर: (ख) यह एक धर्म को राजकीय धर्म बताता है।

प्रश्न 11 – .………..पर आधारित सामाजिक विभाजन सिर्फ भारत में ही है।

उत्तर :- जाति।

प्रश्न12 – सूची I और सूची II में मेल करायें और नीचे दिए गए कोड के आधार पर सही जवाब खोजें।

सूची Iसूची II
अधिकारों और अवसरों के मामले में स्त्री और बराबरी मानने वाला व्यक्ति(क) सांप्रदायिक
धर्म को समुदाय का मुख्य आधार मानने वाला व्यक्ति(ख) नारीवादी
जाति को समुदाय का मुख्य आधार मानने वाला व्यक्ति(ग) धर्मनिरपेक्ष
व्यक्तियों के बीच धार्मिक आस्था के आधार पर भेदभाव न करने वाला व्यक्ति(घ) जातिवादी
1234
(सा)
(रे)
(गा)
(मा)

उत्तर :- (रे) ख, क, घ, ग

विद्यार्थियों को कक्षा 10वीं राजनीति विज्ञान अध्याय 3 जाति धर्म और लैंगिक मसले के प्रश्न उत्तर प्राप्त करके कैसा लगा? हमें अपना सुझाव कमेंट करके ज़रूर बताएं। कक्षा 10वीं राजनीति विज्ञान अध्याय 3 के लिए एनसीईआरटी समाधान देने का उद्देश्य विद्यार्थियों को बेहतर ज्ञान देना है। इसके अलावा आप हमारे इस पेज की मदद से सभी कक्षाओं के एनसीईआरटी समाधान और एनसीईआरटी पुस्तकें भी प्राप्त कर सकते हैं।

कक्षा 10 हिंदी, संस्कृत, अंग्रेजी, विज्ञान, गणित विषयों के समाधानयहाँ से देखें

Leave a Reply