एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 हिंदी दूर्वा अध्याय 6 सागर यात्रा

छात्र इस आर्टिकल के माध्यम से एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 हिंदी दूर्वा अध्याय 6 सागर यात्रा प्राप्त कर सकते हैं। इस आर्टिकल पर कक्षा 8 हिंदी दूर्वा अध्याय 6 सागर यात्रा के लिए पूरा एनसीईआरटी समाधान दिया हुआ है। छात्र ncert solutions for class 8 hindi durva chapter 6 सागर यात्रा पूरी तरह से मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं। ncert solutions for class 8 hindi durva को छात्रों की सहायता के लिए बनाया गया है। छात्र कक्षा 8 हिंदी दूर्वा अध्याय 6 सागर यात्रा के प्रश्न उत्तर से परीक्षा की तैयारी बेहतर तरीके से कर सकते हैं। कक्षा 8 हिंदी दूर्वा पाठ 6 सागर यात्रा के प्रश्न उत्तर नीचे देखें।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 हिंदी दूर्वा अध्याय 6 सागर यात्रा

देखा गया है कि छात्र Class 8 Hindi Durva Solutions के लिए बाजार मिलनी वाली गाइड पर काफी पैसा खर्च कर देते हैं। लेकिन यहां से समाधान मुफ्त और ऑनलाइन माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। ncert solutions for class 8 hindi durva chapter 6 सागर यात्रा को राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद की सहायता से बनाया है। साथ ही कक्षा 8 हिंदी दूर्वा भाग 3 अध्याय 6 सागर यात्रा के प्रश्न उत्तर को सीबीएसई सिलेबस को ध्यान में रख कर भी बनाया गया है।

कक्षा : 8
विषय : हिंदी (दूर्वा भाग -3)
पाठ : 6 सागर यात्रा

1. पाठ से

(क) सागर यात्रा में नौका को सँभालने के लिए हर समय एक व्यक्ति की ज़रूरत थी क्यों ?

उत्तर :- नौका पर जीवन अति व्यस्त था। सागर यात्रा में नौका को संभालने के लिए हर समय एक व्यक्ति की ज़रूरत थी क्योंकि उनके पास स्वचालन व्यवस्था नहीं थी। हर घंटे बाद चक्का संभालने का काम बदलना पड़ता था। एक चक्का संभालता तो दूसरा जहाजों, द्वीपों और ह्वेल मछलियों आदि पर नज़र रखता।

(ख) वे लोग समुंद्र की यात्रा कर रहे थे। समुद्र यात्रा में भी उन्हें पानी की समस्या क्यों हुई ?

उत्तर :- समुंद्र का पानी खारा था जो कि पीने लायक तो बिल्कुल नहीं था। ऊपर से अगर कोई नहाने जाता तो उस पानी में साधारण साबुन कोई काम नहीं करती। शरीर पर गंदगी, चिपचिपी और खुजलाहट वाली परत अच्छे से जाती ही नहीं थी, इसलिए सबको पानी की समस्या झेलनी पड़ती थी।

2. खतरे

“हम सब इस अभियान के ख़तरों को जानते थे।“

समुद्री यात्रा में उन यात्रियों को कौन – कौन से ख़तरों और परेशानियों का सामना करना पड़ा था ?

उत्तर :- तूफानों का सामना हम सब इस अभियान के खतरों को जानते थे इससे आश्य यह है कि वहा सबको ज्ञात था कि शायद वे कभी वापस न लौट सके। शुरू में ही उन्हें खराब मौसम का सामना करना पड़ा। वे रुकना नहीं चाहते थे इसलिए मरम्मत का काम चलती नौका में ही करने की ठानी। यदि थोड़ी सी भी असावधानी हो जाती तो वे आसानी से मस्तूल से टपककर समुद्र की गहराइयों में समा सकते थे। मेडागास्कर के पास एक तूफ़ान आया और 12 मीटर ऊँची समुद्र की लहरें हमारी नौका पर टूट पड़ी और उसे पानी से भर दिया। अभियान दल के सदस्य अनेक बार समुद्र में गिर गए लेकिन सौभाग्य से उन्हें वापस नौका पर खींच लिया गया क्योंकि उन्होंने नौका से जुड़ी रस्सियों को अपनी बेल्ट से बाँध रखा जो। केप ऑफ गुड होप का चक्कर लगाते समय भी वे खतरनाक तूफ़ान से टकराए, हवा की गति थी 120 किलोमीटर प्रति घंटा और समुद्री लहरों की ऊँचाई 15 मीटर हर क्षण मौत को आमंत्रण दे रहा था। उन्हें लगा कि उनकी नौका किसी चट्टान से टकराकर चूर-चूर हो जाएगी। जीवन रक्षक उपकरण खो दिए, रेडियो सैट बेकार हो गया, एरियल टूट गए और पूरी दुनिया से अगले 15 दिनों के लिए उनका रेडियो संपर्क टूट गया। भारतीय समाचारपत्रों ने खबर छाप दी कि ‘तृष्णा‘ लापता है , जिस कारण सबके परिवारजन और मित्रगण बुरी तरह घबरा गए। एक दल उनकी तलाश में भेजा गया लेकिन वह असफल होकर लौट गया। अनुभव बढ़ने के साथ वे नौका को निश्चित राह पर बनाए रखने में सफल रहें।

3. मां के काम

“एक सदस्य माँ की भूमिका निभाता”

(i) नौका पर माँ की भूमिका निभाने वाला व्यक्ति कौन-कौन से काम करता था ?

उत्तर :- एक सदस्य ‘माँ की भूमिका’ (मदर वाच) निभाता। उसे खाना पकाने, बर्तन मांजने, शौचालय की सफाई जैसे काम करने पड़ते ताकि नौका स्वच्छ रहे। ‘माँ की भूमिका’ बारी – बारी से सबको करनी पड़ती। एकमात्र यही ड्यूटी ऐसी थी जिसके बाद आदमी पूरी रात आराम कर पाता। पांच दिनों में केवल एक बार बारी आती और यदि मौसम ठीक रहता तो नींद आ पाती। वह सबकी इच्छा अनुसार चाय – कॉफ़ी बनाता या शीतल पेय देता। वह कुछ नाश्ता भी बनाता।

(ii) तुम्हारे विचार से उन कामों को माँ के कामों की उपमा क्यों दी गई होगी ?

उत्तर :- क्योंकि मां भी हमारे लिए यही काम करती है और हमारा इसी तरह ख्याल रखती है।

(iii) क्या तुमने कभी किसी के लिए ‘माँ की भूमिका’ निभाई है ? यदि हां, तो बताओ

(क) तब तुमने कौन-कौन से काम किए थे ?

उत्तर:- मैंने खाना बनाना, साफ – सफाई करना, चाय बनाना काम किए थे।

(ख) वे काम क्यों और किस लिए किए थे ?

उत्तर :- वह काम जब हमारे घर मेहमान आए थे और हमारे यहां काम करने वाली आंटी नहीं आए तब ये काम मुझे मां की सहायता के लिए करना पड़ा।

(iv) तुम्हारी माँ या घर का अन्य कोई सदस्य सुबह उठने से लेकर रात को सोने तक कौन-कौन से काम करता है ? सूची बनाओ।

उत्तर :- घर पर माँ सुबह से रात तक घर की सफाई, चाय-नाश्ता, कपड़े धोना, खाना बनाना, छोटे भाई बहन को तैयार करना, स्कूल भेजना, कोई मेहमान आ जाए उनके लिए सब तैयार करना आदि काम करते हैं।

4. पानी की परेशानी

 सागर के यात्रियों को पानी के कारण बहुत परेशानी होती थी। बताओ :-

(क) उन्हें पानी के कारण क्या-क्या परेशानियां हुई ?

उत्तर :- वे उस पानी को न तो पी सकते थे और न ही उसमें नहा सकते थे क्योंकि पानी खारा था। उस पानी से  चिपचिपी, खुजलाहट वाली परत जो जमी होती थी वो आसानी से नहीं जाती थी।

(ख) क्या तुम्हारे आसपास भी पानी की समस्या होती है, उसके बारे में बताओ।

उत्तर :-  वैसे तो हमारे यहां पानी पर्याप्त मात्रा मे मिल जाता है क्योंकि नलके और समर सीवर पानी की सुविधा है। बस कई बार बिजली की वजह से ही परेशानी होती है।

(ग) उस समस्या का समाधान कैसे किया जा सकता है ?

उत्तर :- बिजली कि समस्या का समाधान तो यही होता है कि हमें इंतज़ार करना पड़ता है।

5. अपनी-अपनी यात्रा

तुमने अभी दस भारतीय यात्रियों की एक अनूठी यात्रा की कहानी पढ़ी, तुम भी अपनी या किसी अन्य व्यक्ति की यात्रा के बारे में बताओ। तुम चाहो तो ये बाते बता सकते हो :-

(क) वह यात्रा कहां की थी ? यात्रा कैसे की ?

उत्तर :- वह यात्रा गुजरात के कच्छ जिले की है। यह यात्रा हमने कार से की थी।

(ख) उसमें कौन – कौन सी समस्याएं आई ?

उत्तर :- हमें वहाँ पहुंचने के लिए रास्तों को समझने में थोड़ी मुश्किल हुई।

(ग) उन समस्याओं को कैसे दूर किया गया ?

उत्तर :- उन समस्याओं को हमने थोड़ा बहुत फोन से समझा तो कुछ लोगों से पता किया।

(घ) कौन–कौन सी चीजें, पेड़-पौधे आदि पहली बार देखे ?

उत्तर :- हमने वहाँ पेड़ पौधों के अलावा प्रसिद्ध कच्छ के सफ़ेद रण को पहली बार देखा जो दुनिया के सबसे बड़े नमक रेगिस्तान के रूप में जाना जाता है।

6. विशेष जगहों के नाम

‘बंदरगाह’ समुद्र के किनारे की वह जगह होती है जहाँ पानी के जहाज़, नौकाएँ आदि ठहरते हैं। पता लगाओ इन जगहों पर क्या होता है :-

(क) अस्तबल

(ख) हवाई अड्डा

(ग) पोस्ट ऑफिस

(घ) अस्पताल

(ङ) न्यायालय

(च) बाज़ार

उत्तर:-  

(क) अस्तबल     :-     घोड़ों के रहने की जगह

(ख) हवाई अड्डा    :-    हवाई जहाज़ के रुकने की जगह

(ग) पोस्ट-ऑफ़िस    :- चिट्ठियों से जुड़े काम व अन्य सुविधाएं

(घ) अस्पताल     :-  यहाँ रोगियों का इलाज होता हैं

(ङ) न्यायालय    :- जहां किसी भी हुई घटना की कार्यवाही होती है

(च) बाज़ार     :-  जहां हर तरह का सामना खरीदा और बेचा जाता है

7. गणतंत्र दिवस

तृष्णा को गणतंत्र दिवस परेड में शामिल किया गया था। आपस में चर्चा करके नीचे लिखे प्रश्नों के उत्तर खोजों:-

(क) गणतंत्र दिवस किसे कहते हैं? यह किस दिन मनाया जाता है?

उत्तर :- गणतंत्र दिवस भारत का राष्ट्रीय पर्व है कि हर साल 26 जनवरी को मनाया जाता है। सबसे अहम बात यह है की इस दिन भारत का संविधान लागू किया गया था।

(ख) गणतंत्र दिवस के दिन क्या-क्या कार्यक्रम होते हैं ?

उत्तर :- इस दिन लाल किले पर भारतीय राष्ट्र ध्वज को फहराया जाता है और राष्ट्रगान गाया जाता है। परेड निकाली जाती है।

(ग) दूरदर्शन या आकाशवाणी पर गणतंत्र दिवस परेड देखकर उसके बारे में कुछ पंक्तियां लिखो।

उत्तर :-  छात्र इसका उत्तर स्वयं लिखें।

8. खेल

“इस कठिन दिनचर्या के कारण शतरंज खेलने के लिए समय ही नहीं मिलता था।“

यदि उन नाविकों के पास समय होता तो वे नौका पर कौन-कौन से खेल खेल सकते थे? सूची बनाओ:-

  • शतरंज
    • ____
    • ____
    • ____

उत्तर:- 

  • शतरंज
  • लूडो
  • कैरम- बोर्ड
  • ताश

9. खुशी का घंटा

‘दिन में एक बार हम नौका पर खुशी का घंटा बिताते’

यदि तुम्हें स्कूल में ‘खुशी का घंटा’ बिताने का मौका मिले, तो तुम उस एक घंटे में कौन-कौन से काम करना चाहोगे?

उत्तर :- उस खुशी के एक घंटे मैं सभी दोस्तों के साथ बात करना और खेलना पसंद करूंगा।

10. हिम्मतवाले

“हम सब इस अभियान के खतरे को जानते थे, हमें यह भी ज्ञात था कि शायद हम कभी वापस न लौट सकें।“

वे दस नाविक इतनी खतरनाक यात्रा के लिए क्यों निकले होंगे? आपस में चर्चा करो।

उत्तर :- उन दस नाविकों को घूमने का शौक होगा और ज़्यादा जगहों पर घूमने की वजह से उन्हें हर तरह की समस्या झेलने का अनुभव हो गया होगा। वे हर चीज से निपट सकते होंगे। अपने इसी विश्वास और अनुभव के जोश के कारण वे इस खतरनाक और तूफानी यात्रा पर निकलें होंगे।

11. खोए हुए मोज़े की कहानी

तेज़ हवाओं के कारण कभी-कभी उन नाविकों के कपड़े उड़/खो जाते थे। मान लो, ऐसा ही एक मोज़ा तुम्हें अपनी कहानी सुनाना चाहता है। वह क्या-क्या बातें बताएगा, कल्पना से उसकी कहानी पूरी करो।
मैं एक मोज़ा हूँ। वैसे तो मैं हमेशा अपने भाई के साथ रहता हूँ।

उत्तर – छात्र इसका उत्तर स्वयं लिखें।

12. छोटे-छोटे

“जो लोग चौकसी से हटते, वे अपने कपड़े बदलते, खाना खाते, पढ़ते, रेडियो सुनते और अपनी ड्यूटी के अन्यकार्य जैसे रेडियो की जाँच, इंजन की जाँच तथा व्यंजन सूची के अनुसार भोजन बनाने के लिए राशन देने का काम निबटाते।

इस वाक्य को कई छोटे-छोटे वाक्यों के रूप में भी लिखा जा सकता है जैसे :-  जो लोग चौकसी से हटते, वे अपने कपड़े बदलते। वे खाना खाते, पढ़ते और रेडियो सुनते। वे अपनी ड्यूटी के अन्य कार्य करते जैसे रेडियो की जाँच और इंजन की जाँच। वे व्यंजन सूची के अनुसार भोजन बनाने के लिए राशन देने का काम निबटाते।

तुम इसी प्रकार नीचे लिखे वाक्य को छोटे-छोटे वाक्यों में बदलो:-

प्रथम भारतीय नौका अभियान दल विश्व की परिक्रमा करके 54,000 किलोमीटर की दूरी मापकर 470 दिन की ऐतिहासिक यात्रा के बाद 10 जनवरी, 1987 को 6.00 बजे मुंबई बंदरगाह पहुँचा।

उत्तर :-  प्रथम भारतीय नौका अभियान दल विश्व की परिक्रमा के लिए निकला जिसकी दूरी 54,000 किलोमीटरथी। उसे पूरा करने में 470 दिन लगे। इस ऐतिहासिक यात्रा के पश्चात् 10जनवरी 1987 को 6 बजे मुम्बई बंदरगाह पहुंचे।

13. सही उपसर्ग लगाओ:-

अ, सु

ऊपर बॉक्स में दिए गए उपसर्ग लगाकर सार्थक शब्द बनाओ।

(क) सफल  + ______ = _______

(ख) स्वागत + ______=_______

(ग) विश्वास + ______= _______

(घ) कन्या + ______ = _______

(ङ) पुत्र + ______ =_______

उत्तर:-     

(क) सफल  + अ   =    असफल

(ख) स्वागत  + सु  =   सुस्वागत

(ग) विश्वास + अ  =  अविश्वास

(घ) कन्या + सु   =  सुकन्या

(ङ) पुत्र  +  सु   =  सुपुत्र

14. सही वाक्य

में, ने, को, का, के लिए, से, पर

तालिका में से यही शब्द चुनकर रिक्त स्थानों में भरो:-

(क) सीमा ____ फल खाए।

(ख) रोहित ____ पेन नया है।

(ग) माँ- बच्चों ____ मिठाई लाई।

(घ) हमने रस्सी ____ कपड़े सुखाए।

(ङ) मैंने बैग ____ किताबें रखीं।

(च) पौधों ____ गमलों में रखो।

(छ) केरल जम्मू _____ बहुत दूर है।

उत्तर :-

(क) सीमा ने फल खाए।

(ख) रोहित का पेन नया है।

(ग) माँ- बच्चों के लिए मिठाई लाई।

(घ) हमने रस्सी पर कपड़े सुखाए।

(ङ) मैंने बैग में किताबें रखीं।

(च) पौधों को गमलों में रखो।

(छ) केरल जम्मू से बहुत दूर हैं।

कक्षा 8 हिंदी दूर्वा के सभी अध्यायों के एनसीईआरटी समाधान नीचे देखें

अध्यायअध्याय के नाम
1गुड़िया (कविता)
2दो गौरैया (कहानी)
3चिट्ठियों में यूरोप (पत्र)
4ओस (कविता)
5नाटक में नाटक (कहानी)
6सागर यात्रा (यात्रा वृत्तांत)
7उठ किसान ओ (कविता)
8सस्ते का चक्कर (एकांकी)
9एक खिलाड़ी की कुछ यादें (संस्मरण)
10बस की सैर (कहानी)
11हिंदी ने जिनकी जिंदगी बदल दी – मारिया नेज्यैशी (भेंटवार्ता)
12आषाढ़ का पहला दिन (कविता)
13अन्याय के खिलाफ (कहानी) (आदिवासी स्वतंत्रता संघर्ष कथा)
14बच्चों के प्रिय श्री केशव शंकर पिल्लै (व्यक्तित्व)
15फर्श पर (कविता)
16बूढ़ी अम्मा की बात (लोककथा)
17वह सुबह कभी तो आएगी (निबंध)

हम आशा करते हैं कि छात्रों को ncert solutions for class 8 hindi durva chapter 6 सागर यात्रा प्राप्त करके काफी खुशी हुई होगी। हमारा उद्देश्य केवल बेहतर ज्ञान देना है। इसके अलावा आप हमारे एनसीईआरटी के पेज से सभी विषयों के एनसीईआरटी समाधान और हिंदी में एनसीईआरटी की पुस्तकें भी प्राप्त कर सकते हैं।

कक्षा 8 हिंदी वसंत के लिए एनसीआरटी समाधानयहां से देखें

Leave a Reply