एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 हिंदी वसंत अध्याय 6 रक्त और हमारा शरीर

छात्र इस आर्टिकल के माध्यम से एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 हिंदी वसंत अध्याय 6 रक्त और हमारा शरीर प्राप्त कर सकते हैं। छात्र कक्षा 7 हिंदी पाठ 6 के प्रश्न उत्तर मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं। छात्रों के लिए वसंत भाग 2 कक्षा 7 के प्रश्न उत्तर साधारण भाषा में बनाएं गए हैं। वसंत भाग 2 कक्षा 7 chapter 6 के माध्यम से छात्र परीक्षा की तैयारी बेहतर तरीके से कर सकते हैं। कक्षा 7 वीं हिंदी अध्याय 6 रक्त और हमारा शरीर के प्रश्न उत्तर सीबीएसई सिलेबस को ध्यान में रखकर बनाएं गए हैं।

देखा गया है कि एनसीईआरटी वसंत हिंदी 7 वीं कक्षा सवाल जवाब के लिए छात्र बाजार में मिलने वाली गाइड पर काफी पैसा खर्च कर देते हैं। लेकिन यहां से NCERT Solutions kaksha 7 vishay hindi chapter 6 पूरी तरह से मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं। vasant bhag 2 किताब बहुत ही रोचक है। आइये फिर नीचे ncert solutions class 7 hindi chapter 6 रक्त और हमारा शरीर देखते हैं।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 हिंदी वसंत अध्याय 6 रक्त और हमारा शरीर

कक्षा 7 हिंदी एनसीईआरटी समाधान का उदेश्य केवल अच्छी शिक्षा देना है। कक्षा 7 वीं हिंदी अध्याय 6 रक्त और हमारा शरीर के प्रश्न उत्तर राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के सहायता से बनाए गए है। छात्र नीचे वसंत भाग 2 कक्षा 7 के प्रश्न उत्तर प्राप्त कर सकते हैं।

कक्षा : 7
विषय : हिंदी (वसंत भाग -2)

अध्याय : 6 (रक्त और हमारा शरीर)

अभ्यास प्रश्न उत्तर

पाठ से:-

1 . रक्त के बहाव को रोकने के लिए क्या करना चाहिए ?

उत्तर :- रक्त के बहाव को रोकने के लिए हमें पहले किसी कपड़े से कस कर बाँध लेना चहिए और फिर डॉक्टर के पास जाना चहिए। कई बार ऐसी स्थिति से निपटने के लिए हमें टांके भी लगवाने पड़ सकते है।

2. खून को ‘भानुमती का पिटारा‘ क्यों कहा जाता है ?

उत्तर :- रक्त के दो भाग होते है। एक भाग वह जो तरल है, जिसे हम प्लाज्मा कहते हैं। दूसरा, वह जिसमें छोटे – बड़े  कई तरह के कण होते हैं। कुछ लाल, कुछ सफ़ेद और कुछ ऐसे जिनका कोई रंग नहीं, जिन्हें बिंबाणु (प्लेटलैट कण) कहते हैं। ये कण प्लाज्मा में तैरते रहते हैं। उनकी संख्या लाखों में होती है। यही कारण है कि खून को भानुमती का पिटारा कहा जाता है।

3. एनीमिया से बचने के लिए हमें क्या – क्या खाना चाहिए ?

उत्तर :- एनीमिया ‘रक्त की कमी से होता है। हमें एनीमिया से बचने के लिए नियमित रूप से पौष्टिक आहार लेना चाहिए। हमें प्रोटीन, लौह तत्त्व एवं विटामिन से युक्त भोजन ग्रहण करना चाहिए। ये सभी तत्त्व हमें हरी सब्जियों, फलों, दूध एवं अंडों आदि से प्राप्त होते हैं।

4. पेट में कीड़े क्यों हो जाते हैं ?  इनसे कैसे बचा जा सकता है ?

उत्तर :-  ये कीड़े प्रायः दूषित जल और खाद्य पदार्थों द्वारा हमारे शरीर में प्रवेश करते हैं। इनसे बचने के लिए यह आवश्यक है कि हम पूरी सफ़ाई से बनाए गए खाद्य पदार्थ ही ग्रहण करें। भोजन करने से पूर्व अच्छी तरह से हाथ धो लें और साफ़ पानी ही पीए। कई अंडे ऐसे होते है जो ज़मीन की ऊपरी सतह पर पाए जाते है। और इन अंडों से उत्पन्न हुए लार्वे त्वचा के रास्ते शरीर में प्रवेश कर आँतों में अपना घर बना लेते हैं। इनसे बचने का सहज उपाय है कि शौच के लिए हम शौचालय का ही प्रयोग करें।

5. रक्त के सफ़ेद कणों को ‘वीर  सिपाही‘ क्यों कहा गया है ?

उत्तर :- रक्त के सफ़ेद कण वास्तव में हमारे शरीर के वीर सिपाही हैं। जब रोगाणु शरीर पर धावा बोलने की कोशिश करते हैं तो सफ़ेद कण उनसे डटकर मुकाबला करते हैं और जहाँ तक संभव हो पाता है रोगाणुओं को भीतर घर नहीं करने देते। इससे हमें अनेक रोगो से मुक्ति मिलती है।

6. ब्लड – बैंक में रक्तदान से क्या लाभ है ?

उत्तर :- प्रायः हर बड़े अस्पताल में इस तरह के बैंक होते हैं, जहाँ, सभी प्रकार के रक्त – समूहों का रक्त तैयार रखा जाता है। रक्तदान से अनेक लाभ होते है। इससे किसी जरूरतमन्द व्यक्ति को जीवन दान दिया जा सकता है। इससे दिल के सेहत में सुधर रहता है। रक्तदान से हम वजन को नियंत्रित भी कर सकते है।

7. साँस लेने पर शुद्ध वायु से जो ऑक्सीजन प्राप्त होती है, उसे शरीर के हर हिस्से में कौन पहुँचाता है:-

सफ़ेद कण      लाल कण

साँस नली       फेफड़े

उत्तर :- लाल कण

पाठ से आगे:-

1 . रक्त में हीमोग्लोबिन के लिए किस खनिज की आवश्यकता पड़ती है:-

जस्ता      शीशा

लोहा      प्लैटिनम

उत्तर :- लोहा

2. बिंबाणु (प्लेटलैट कण) की कमी किस बीमारी में पाई जाती है :-

टाइफ़ायड      मलेरिया

डेंगू             फाइलेरिया

उत्तर :- डेंगू

भाषा की बात:-

1 . (क) चार महीने के होते – होते ये नष्ट हो जाते हैं:-

 • इस वाक्य को ध्यान से पढ़िए। इस वाक्य में होते – होते ‘के प्रयोग से यह बताया गया है कि चार महीने से पूर्व ही ये नष्ट हो जाते हैं। इस तरह के पाँच वाक्य बनाइए जिनमें इन शब्दों का प्रयोग हो :-

बनते – बनते, पहुँचते – पहुँचते, लेते – लेते, करते – करते

उत्तर :- बनते –  बनते :- मेरा काम तो बनते –  बनते ही रह गया।

पहुँचते –  पहुँचते :- मैं ऑफिस पहुँचते –  पहुँचते काम करने में लेट हो गया।

लेते –  लेते :- उसने अपने माँ –  बाप का नाम लेते- लेते ही प्राण त्याग दिए।

करते –  करते :- मैं काम करते –  करते थक गया।

(ख) इन प्रयोगों को पढ़िए:-

सड़क के किनारे – किनारे पेड़ लगे है।

आज दूर – दूर तक वर्षा होगी ।

• इन वाक्यों में होते – होते ‘ की तरह ‘ किनारे – किनारे ‘ और ‘ दूर – दूर ‘ शब्द दोहराए गए हैं । पर हर वाक्य में अर्थ भिन्न है । किनारे – किनारे का अर्थ है – किनारे से लगा हुआ और दूर – दूर का बहुत दूर तक ।

• आप भी निम्नलिखित शब्दों का प्रयोग करते हुए वाक्य बनाइए और उनके अर्थ लिखिए:-

ठीक – ठीक, घड़ी – घड़ी, कहीं – कहीं, घर – घर, क्या – क्या

उत्तर :-  तुम यह काम बिल्क़ुल ठीक –  ठीक करना ।

घड़ी –  घड़ी तुम बाहर भाग जाते हो।

कहीं –  कहीं तुम्हारी बात मुझे ठीक लगी।

आजकल   घर –  घर में मोबाइल फोन है।

2. इस पाठ में दिए गए मुहावरों और कहावतों को पढ़िए और वाक्यों में प्रयोग कीजिए:-

भानुमती का पिटारा, दस्तक देना, धावा बोलना, घर करना, पीठ ठोकना।

उत्तर :-  भानुमती का पिटारा :- (विभिन्न प्रकार की वस्तुओं का संग्रहण) -तुम्हारा दिमाग तो भानुमती का पिटारा है ।

दस्तक देना :-  (आने की सूचना देना) – तुमने घर में बिना बताए ही अचानक ही दस्तक देदी।

धावा बोलना :-  (हमला करना) – पाकिस्तान  ने हमारे देश पर फिर से धावा बोल दिया।

घर करना :-  (मन में कोई बात बैठ जाना) – तुम्हें उसे ज्यादा नहीं डाटना चहिए था,  वह बात उसके मन में घर कर गई।

पीठ ठोकना :- (शाबाशी देना) – अध्यापक ने मेरे अच्छे काम करने पर पीठ ठोकी।

कुछ करने को:-

1 . अपने परिवार के अट्ठारह वर्ष से पचास वर्ष तक की आयुवाले सभी स्वस्थ सदस्यों को रक्तदान के लिए प्रेरित कीजिए और समय आने पर स्वयं भी रक्तदान करने का संकल्प लीजिए।

उत्तर :- रक्त की जरूरत कब किस इंसान को पड़ जाए, कहा नहीं जा सकता। क्या पता आपके खून की कुछ बूंदे किसी जरूरतमंद की सांसों को थमने से रोक दें। प्रचार-प्रसार के बावजूद आज भी बहुत से लोगों के दिलोदिमाग में रक्तदान को लेकर कुछ गलत धारणाएं विद्यमान हैं। यही वजह है कि बहुत प्रयास के बावजूद कम रक्त उपलब्ध हो पाता है। इसके लिए हमें थोड़े थोड़े समय में रक्तदान करना चाहिए। आओं करे हम रक्तदान और बने देश का अभिमान।

3. नीचे दिए गए प्रश्नों के बारे में जानकारी एकत्र कीजिए:-

(क) ब्लू बेबी क्या है ?

उत्तर :- ऐसा बच्चा जिसके ह्र्दय में छिद्र हो, ब्लू बेबी कहलाता है।

(ख) रक्त के जमाव की क्रिया में बिंबाणु (प्लेटलैट) का कार्य क्या है ?

उत्तर :-बिम्बाणु जाल की भांति फैलकर रक्त को बहने से रोकते है।

(ग) रक्तदान के लिए कम –से– कम कितनी उम्र होनी चाहिए ?

उत्तर :- रक्तदान के लिए कम से कम अठारह वर्ष होनी चाहिए।

(घ) कितने समय बाद दोबारा रक्तदान किया जा सकता है ?

उत्तर :- 3- 4 महीने बाद दोबारा रक्तदान किया जा सकता है।

(ङ) क्या स्त्री का रक्त पुरुष को चढ़ाया जा सकता है ?

उत्तर :- हां स्त्री का रक्त पुरुष को चढाया जा सकता है।

4. शरीर के किसी अंग में अचानक रक्त – संचार रुक जाने से क्या – क्या परिस्थितियाँ उत्पन्न हो सकती है ?

उत्तर :- यदि शरीर के किसी अंग में अचानक रक्त – सन्चार रुक जाएगा तो वह भाग काम करना बंद कर देगा तथा कई बार उस भाग में जहर फैलने से भाग को काटने तक की नौबत आ जाती है।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 हिंदी वसंत भाग 2 के सभी अध्याय नीचे देखें

अध्यायअध्याय के नाम
1हम पंछी उन्मुक्त गगन के
2दादी माँ
3हिमालय की बेटियाँ
4कठपुतली
5मिठाईवाला
6रक्त और हमारा शरीर
7पापा खो गए
8शाम-एक-किसान
9चिड़िया की बच्ची
10अपूर्व अनुभव
11रहीम के दोहे
12कंचा
13एक तिनका
14खानपान की बदलती तसवीर
15नीलकंठ
16भोर और बरखा
17वीर कुँवर सिंह
18संघर्ष के कारण मैं तुनुकमिज़ाज हो गया : धनराज
19आश्रम का अनुमानित व्यय
20विप्लव-गायन

छात्रों को एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 हिंदी वसंत अध्याय 6 रक्त और हमारा शरीर प्राप्त करके काफी ख़ुशी हुई होगी। हमारा प्रयास है कि छात्रों को बेहतर ज्ञान दिया जाए। छात्र एनसीईआरटी पुस्तक या सैंपल पेपर आदि की अधिक जानकारी के लिए parikshapoint.com की वेबसाइट पर जा सकते हैं।

इस आर्टिकल के मुख्य पेज के लिएयहाँ क्लिक करें

Leave a Comment