एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 सामाजिक विज्ञान भूगोल अध्याय 6 मानव संसाधन

छात्र इस आर्टिकल के माध्यम से एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 सामाजिक विज्ञान भूगोल अध्याय 6 मानव संसाधन प्राप्त कर सकते हैं। छात्रों के लिए संसाधन एवं विकास कक्षा 8 प्रश्न उत्तर साधारण भाषा में बनाए गए है। कक्षा 8 भूगोल अध्याय 6 मानव संसाधन के लिए एनसीईआरटी समाधान को सीबीएसई सिलेबस को ध्यान में रखकर बनाया गया हैं। ताकि छात्र kaksha 8 sansadhan aur vikas अध्याय 6 मानव संसाधन के पेपर में अच्छे अंक प्राप्त कर सके। सामाजिक विज्ञान कक्षा आठवीं भूगोल अध्याय 6 मानव संसाधन के प्रश्न उत्तर नीचे देखें।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 सामाजिक विज्ञान भूगोल अध्याय 6 मानव संसाधन

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 8 भूगोल अध्याय 6 मानव संसाधन को राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के सहायता से बनाया गया है। देखा गया है कि छात्र कक्षा 8 सामाजिक विज्ञान पाठ 6 के प्रश्न उत्तर के लिए बाजार मिलने वाली गाइड पर काफी पैसा खर्च कर देते हैं। फिर उसको रखने में भी दिक्क्तों का सामना करना पड़ता हैं। लेकिन यहां से class 8 samajik vigyan chapter 6 question answer ऑनलाइन और मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं। कक्षा 8 भूगोल अध्याय 6 मानव संसाधन के प्रश्न उत्तर नीचे से प्राप्त करें।

कक्षा : 8
विषय : सामाजिक विज्ञान (भूगोल – संसाधन एवं विकास)

पाठ:-6 (मानव संसाधन)
अभ्यास :-

प्रश्न 1- निम्नलिखित प्रश्नों के उत्तर दीजिए :-

(i) लोगों को एक संसाधन क्यों समझा जाता है ?

उत्तर :- लोग एक ही राष्ट्र के सबसे बड़े संसाधन होते है। प्रकृति की देन केवल उस समय महत्वपूर्ण होती है जब वह लोगों के लिए उपयोगी होती है। लोग अपनी आवश्यकताओं और योग्यताओं से प्रकृति द्वारा दी गई देन को संसाधन में परिवर्तित कर देते है। स्वस्थ, शिक्षित और अभिप्रेरित लोग अपनी आवश्यकतओं के अनुरूप संसाधनों का विकास करते है। इस प्रकार मानव संसाधन ही अंतिम संसाधन है।

(ii) विश्व में जनसंख्या के असमान वितरण के क्या कारण हैं ?

उत्तर :- पृथ्वी पृष्ठ के एक इकाई क्षेत्र में रहने वाले लोगों की संख्या को जनसंख्या का घनत्व कहते कि, लेकिन संसार में सभी जगह जनसंख्या का वितरण तथा घनत्व एक सामान नहीं है। जनसंख्या के असमान वितरण के निम्नलिखित कारण है, जैसे:-

भौगोलिक कारक :-

  • स्थलाकृति :- लोग सदैव पर्वतों और पठारों की तुलना में मैदानी भागों में ही रहना पसंद करते हैं क्योंकि ये क्षेत्र खेती , विनिर्माण और सेवा क्रियाओं के लिए उपयुक्त होते हैं। गंगा के मैदान विश्व के सबसे अधिक घने बसे क्षेत्र हैं जबकि एंडीज़, आल्पस और हिमालय जैसे पर्वत विरल बसे हुए हैं।
  • जलवायु : लोग सामान्य रूप से चरम जलवायु जो अत्यधिक गरम अथवा अत्यधिक ठंडी जैसे सहारा मरुस्थल, रूस के ध्रुवीय प्रदेश, कनाडा और अंटार्कटिक में रहने से बचते हैं।
  • मृदा : उपजाऊ मृदाएँ कृषि के लिए उपयुक्त भूमि प्रदान करती हैं। भारत में गंगा और ब्रह्मपुत्र, चीन में ह्वांग ही, चांग जियांग तथा मिस्र में नील नदी के उपजाऊ मैदान घने बसे हुए क्षेत्र हैं।
  • जल : लोग उन क्षेत्रों में रहने को प्राथमिकता देते हैं जहाँ अलवणीय जल आसानी से उपलब्ध होता है। विश्व की नदी घाटियाँ घने बसे क्षेत्र हैं जबकि मरुस्थल विरल जनसंख्या वाले हैं।
  • खनिज : खनिज निक्षेपों वाले क्षेत्र अधिक बसे हुए हैं। दक्षिणी अफ्रीका की हीरे की खानें और मध्य पूर्व में तेल की खोज ने इन क्षेत्रों में लोगों को रहने के लिए प्रेरित किया है।

सामाजिक , सांस्कृतिक और आर्थिक कारक :-

  • आर्थिक कारक :- औद्योगिक क्षेत्र रोजगार के अवसर प्रदान करते हैं। लोग बड़ी संख्या में इन क्षेत्रों की ओर आकर्षित होते हैं। जापान में ओसाका और भारत में मुंबई दो घने बसे क्षेत्र हैं।
  • सांस्कृतिक कारक :- धर्म और सांस्कृतिक महत्ता वाले स्थान लोगों को आकर्षित करते हैं। वाराणसी  और वेटिकन सिटी इसके कुछ उदाहरण हैं।
  • सामाजिक कारक :- अच्छे आवास , शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं के क्षेत्र अत्यधिक घने बसे हैं , उदाहरण के लिए पुणे।

(iii) विश्व की जनसंख्या अत्यंत तीव्रता से बढ़ रही है। क्यों ?

उत्तर :- ऐसा वास्तव में जन्म और मृत्यु की संख्या में परिवर्तन के कारण हुआ है। मानव इतिहास की लंबी अवधि में, सन 1800 तक विश्व की जनसंख्या धीरे – धीरे बढ़ी है। बड़ी संख्या में बच्चे जन्म लेते थे जाती थी । सन 1820 में, विश्व की जनसंख्या एक अरब हो गई थी। 150 वर्षों बाद, 1970 के प्रारंभ में विश्व की जनसंख्या 3 अरब पहुँच गई। इसे प्रायः जनसंख्या विस्फोट कहते हैं। 1999 में, 30 वर्ष की अवधि से कम में जनसंख्या दुगुनी 6 अरब हो गई। इस वृद्धि का मुख्य कारण खाद्य आपूर्ति एवं औषधियों के कारण मृत्यु दर कम होना है। जबकि जन्म दर अभी भी बहुत अधिक रही।

(iv) जनसंख्या परिवर्तन को प्रभावित करने वाले किन्हीं दो कारकों को भूमिका का वर्णन कीजिए।

उत्तर:- जनसंख्या परिवर्तन को प्रभावित करने वाले दो कारक जन्म और मृत्यु जो कि प्राकृतिक कारण है तथा दूसरा अंतर्राष्ट्रीय प्रवास।

जनसंख्या के बढ़ने कारक मुख्य कारण प्राकृतिक वृद्धि दर कारक तीव्रता से घटना या बढ़ना है। प्रवास एक अन्य कारण है जिससे जनसंख्या के आकार में परिवर्तन होता है। अंतर्राष्ट्रीय प्रवास की सामान्य प्रवृत्ति यह है कि लोग अच्छे आर्थिक अवसरों की खोज में कम विकसित राष्ट्रों से अधिक विकसित राष्ट्रों में चले जाते है। देशों के अंदर बड़ी संख्या में लोग रोजगार, शिक्षा और स्वास्थ्य सुविधाओं की खोज में ग्रामीण क्षेत्रों से नगरीय क्षेत्रों की ओर चले जाते है।

(v) जनसंख्या संघटन से क्या तात्पर्य है ?

उत्तर :- जनसंख्या संघटन से तात्पर्य  यह है कि एक संसाधन के रूप में लोगों की भूमिका को समझने के लिए हमें उनके गुणों के बारे में जानने की आवश्यकता होती है। लोग अपनी आयु, लिंग, साक्षरता स्तर, स्वास्थ्य दशाओं, व्यवसाय और आय के स्तर पर एक – दूसरे से भिन्न होते हैं। लोगों की इन विशेषताओं के बारे में जानना आवश्यक है। जनसंख्या संघटन जनसंख्या की संरचना को दर्शाता है।

(vi) जनसंख्या पिरामिड क्या है ? ये किसी देश की जनसंख्या को समझने में किस प्रकार मदद करते हैं ?

उत्तर :- एक देश के जनसंख्या संघटन का अध्ययन करने की एक रुचिकर विधि को ‘जनसंख्या पिरामिड’ कहते है। इसे ‘आयु लिंग पिरामिड’ भी कहते है क्योंकि यह कितने पुरुष और कितनी स्त्रियां है इसके साथ वे किस आयु वर्ग के है ये भी दर्शाते है।

यह किसी भी उस विशिष्ट देश में रहने वाले लोगों की जनसंख्या को समझने में मदद करते है।

  • बच्चों तथा वृद्धों की संख्या :- यह बच्चों की संख्या (15 वर्ष से नीचे) और वृद्धों (65 वर्ष या उससे ऊपर) की संख्या को दर्शाता है। बच्चों की संख्या निचले भाग में दिखाई गई है और यह जन्म के स्तर को दर्शाती है।
  • आश्रित और कार्यशील जनसंख्या :- यह पिरामिड किसी भी देश में आश्रित तथा कार्यशील लोगों की संख्या को बताता है। युवा आश्रित लोग (15 वर्ष से कम आयु के) और वृद्ध आश्रित लोग (65 वर्ष से अधिक आयु के) आश्रित आयु जनसंख्या के अंतर्गत आते है।
  • उच्च जन्म दर तथा उच्च मृत्यु दर :- जिन देशों में मृत्यु दर (विशेष) रूप से बहुत छोटे बच्चों में) कम हो रही है , युवा आयु वर्ग का पिरामिड चौड़ा है क्योंकि शिशु प्रौढ़ावस्था तक जीवित रहते हैं। यह भारत के पिरामिड में दृष्टिगोचर होता है। इस प्रकार की जनसंख्या में युवा  सापेक्षतः: अधिक है इसका अर्थ मजबूत और वर्धमान बढ़ती हुई श्रम शक्ति है।

प्रश्न 2 – सही को चिह्नित कीजिए :-

(i) जनसंख्या वितरण शब्द से क्या तात्पर्य है ?

(क) किसी विशिष्ट क्षेत्र में समय के साथ जनसंख्या में किस प्रकार परिवर्तन होता है।

(ख) किसी विशिष्ट क्षेत्र में जन्म लेने करने वाले लोगों की संख्या के संदर्भ में मृत्यु प्राप्त करने वाले लोगों की संख्या।

(ग) किसी दिए हुए क्षेत्र में लोग किस रूप में वितरित हैं।

उत्तर :- (ग) किसी दिए हुए क्षेत्र में लोग किस रूप में वितरित है।

(ii) वे तीन मुख्य कारक कौन से हैं जिनसे जनसंख्या में परिवर्तन होता है ?

(क) जन्म, मृत्यु और विवाह

(ख) जन्म, मृत्यु और प्रवास

(ग) जन्म, मृत्यु और जीवन प्रत्याशा

उत्तर :- (ख) जन्म,  मृत्यु और प्रवास

(iii) 1999 में विश्व की जनसंख्या हो गई :-

(क) 1 अरब

(ख) 3 अरब

(ग) 6 अरब

उत्तर :-  (ग) 3 अरब

(iv) जनसंख्या पिरामिड क्या है ?

(क) जनसंख्या का आयु लिंग संघटन का आलेखीय निरूपण।

(ख) जब किसी क्षेत्र का जनघनत्व इतना बढ़ जाता है कि लोग ऊँची इमारतों में रहते हैं।

(ग) बड़े नगरीय क्षेत्रों में जनसंख्या वितरण का प्रतिरूप।

उत्तर :- (क) जनसंख्या का आयु लिंग संघटन का आलेखीय निरूपण

प्रश्न 3-  नीचे दिए शब्दों का उपयोग करके वाक्यों को पूरा कीजिए :-

विरल, अनुकूल, परती, कृत्रिम, उर्वर, प्राकृतिक, चरम, घना।

जब लोग किसी क्षेत्र की ओर आकर्षित होते हैं तब वह ______  बसा हुआ बन जाता है । इसे प्रभावित करने वाले कारकों के अंतर्गत ______ जलवायु _______ संसाधनों की आपूर्ति और _____ ज़मीन  आते हैं।

उत्तर :- जब लोग किसी क्षेत्र की ओर आकर्षित होते हैं तब वह घना बसा हुआ बन जाता है। इसे प्रभावित करने वाले कारकों के अंतर्गत अनुकूल जलवायु प्राकृतिक संसाधनों की आपूर्ति और उर्वर ज़मीन आते है।

प्रश्न 4 – क्रियाकलाप :-

जिस समाज में 15 वर्ष से कम आयु के बहुत से लोग हैं और 15 वर्ष से कम आयु के बहुत कम लोग हैं उस समाज की विशेषताओं का वर्णन करो :-

संकेत : विद्यालय की आवश्यकता,  पेंशन स्कीम, शिक्षक,  खिलौने, पहिएदार कुर्सी, श्रम आपूर्ति, अस्पताल।

उत्तर :- 15 वर्ष से कम आयु के बहुत से लोगों वाले समाज में स्कूल में प्रयुक्त होने वाली चीजों की संख्याओं की मांग अधिक होगी। जैसे :- मेज, कुर्सी, श्यामपट्ट, चॉक, बेंच, पेन, पेंसिल, किताब इत्यादि। अधिक अध्यापक और स्कूलों की आवश्यकता होगी। खिलौनों की आवश्यकता होगी। 15 वर्ष से कम आयु के बहुत कम लोगों वाले समाज में बुजुर्गों की संख्या ज्यादा होगी। उनके लिए पेंशन स्कीम की जरूरत पड़ेगी। अस्पताल, डॉक्टर, नर्स की जरूरत होगी।

कक्षा 8 भूगोल के सभी अध्यायों के एनसीईआरटी समाधान नीचे टेबल से देखें
अध्याय की संख्याअध्याय के नाम
अध्याय 1संसाधन
अध्याय 2भूमि, मृदा, जल, प्राकृतिक वनस्पति और वन्य जीवन संसाधन
अध्याय 3खनिज और शक्ति संसाधन
अध्याय 4कृषि
अध्याय 5उद्योग
अध्याय 6मानव संसाधन

छात्रों को कक्षा 8 सामाजिक विज्ञान भूगोल पाठ 6 मानव संसाधन के प्रश्न उत्तर प्राप्त करके काफी खुशी हुई होगी। ncert solutions for class 8 sst in hindi medium में देने का उद्देश्य केवल छात्रों को बेहतर ज्ञान देना है। इसके अलावा आप एनसीईआरटी के पेज से सभी विषयों के एनसीईआरटी समाधान (NCERT Solutions in hindi) और हिंदी में एनसीईआरटी की पुस्तकें (NCERT Books In Hindi) भी प्राप्त कर सकते हैं। हम आशा करते है कि आपको हमारा यह आर्टिकल पसंद आया होगा।

कक्षा 8 के इतिहास और नागरिक शास्त्र के एनसीईआरटी समाधानयहां से देखें

Leave a Reply