MBBS Full Form In Hindi: एम.बी.बी.एस. क्या है, योग्यता, एडमिशन प्रक्रिया, करियर

Photo of author
Mamta Kumari

एमबीबीएस की फुल फॉर्म (MBBS Full Form In Hindi)- आज ज़्यादातर विद्यार्थी बचपन से ही चिकित्सा क्षेत्र में जानें और डॉक्टर बनने का सपना देखते हैं। एम.बी.बी.एस. कोर्स ऐसे विद्यार्थियों के सपने को पूरा करने का एक बेहतर अवसर देता है। जिस तरह कोरोना जैसी वैश्विक महामारी हमारे देश में फैली उसके बाद से चिकित्सा क्षेत्र में विद्यार्थियों का कदम बढ़ाना, सिर्फ उनके लिए ही नहीं बल्कि पूरे भारत देश के लिए लाभकारी साबित होगा। क्योंकि इससे एक तरफ तो देश में योग्य डॉकरों की कमी पूरी होगी और दूसरी तरफ यहाँ के नागरिकों को आसानी से बेहतर डॉक्टरों की सुविधाएँ प्राप्त होंगी।

एमबीबीएस की फुल फॉर्म

एम.बी.बी.एस. डिग्री कोर्स चिकित्सा क्षेत्र की सभी सर्वश्रेष्ठ पेशेवर डिग्रियों में से एक है। कई लोग इसे डॉक्टर की बेसिक डिग्री मानते हैं। इस डिग्री को प्राप्त करने के बाद ही विद्यार्थी डॉक्टर बनते हैं। आज भले ही करियर के कई विकल्प विद्यार्थियों के पास मौजूद हैं लेकिन फिर भी आज भी बहुत से विद्यार्थी डॉक्टर ही बनना चाहते हैं और उसके लिए जी जान लगाकर कड़ी मेहनत भी करते हैं। जिसके लिए उन्हें साढ़े पाँच साल के डिग्री कोर्स एम.बी.बी.एस. में एडमिशन लेना पड़ता है। इस कोर्स में एडमिशन लेने के लिए विद्यार्थी को प्रवेश परीक्षा पास करनी पड़ती है। इसके अलावा भी कुछ विशेष जानकारियाँ हैं जिन्हें आप नीचे एक के बाद एक पढ़ सकते हैं और अपने डॉक्टर बनने के सपने को एक साकार रूप दें सकते हैं।

एम.बी.बी.एस. क्या है?

एम.बी.बी.एस. एक स्नातक डिग्री कोर्स है जोकि चिकित्सा विज्ञान की प्रोफ़ेसनल डिग्री है। इस डिग्री को प्राप्त करने के बाद ही अभ्यर्थी डॉक्टर बन पाते हैं। एम.बी.बी.एस. कोर्स को पूरा करने में साढ़े पाँच वर्ष लगते हैं जिसमें से एक वर्ष इंटर्नशिप के लिए होता है। विद्यार्थियों को इस लंबी समयावधि कोर्स में पैथालॉजी, एनाटोमी, हेल्थ एंड मेडिसिन, सर्जरी जैसे अन्य कई विषयों के बारे में विस्तार से पढ़ाया जाता हैं। उसके बाद इंटर्नशिप के समय उनको अस्पताल, स्वास्थ्य सेवा संस्थान में फिजीशियन, कंसल्टेंट, क्रिटिकल केयर यूनिट में मेडिकल असिस्टेंट के तौर पर प्रेक्टिस करने का भी अवसर दिया जाता है। अगर आप भी एम.बी.बी.एस. कोर्स में एडमिशन लेना चाहते हैं, तो इसके लिए नीट प्रवेश परीक्षा पास करके मेडिकल कॉलेज में एडमिशन ले सकते हैं। एम.बी.बी.एस. पाठ्यक्रम से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण विषय निम्नलिखित हैं-

  • जैव रसायन
  • पैथोलॉजी
  • सूक्ष्म जीव विज्ञान
  • प्रसूति एवं स्त्री रोग
  • नेत्र विज्ञान
  • बाल चिकित्सा
  • रेडियोलॉजी
  • फोरेंसिक मेडिसिन
  • ऑर्थोपेडिक्स
  • संज्ञाहरण
  • त्वचा विज्ञान

छात्र एम.बी.बी.एस. डिग्री लेने के बाद अपने स्नातकोत्तर की पढ़ाई के लिए विभिन्न विषयों का चयन कर सकते हैं और एमडी/एमएस (MD/MS) या डिप्लोमा कोर्स में स्नातकोत्तर मेडिकल डिग्री ले सकते हैं। उसेक बाद उम्मीदवार सरकारी और गैर-सरकारी अस्पतालों में या अन्य किसी क्षेत्र में अच्छे वेतन के साथ डॉक्टर के रूप में कार्य करने योग्य बन जाते हैं।

एम.बी.बी.एस. फुल फॉर्म

एमबीबीएस का पूरा नाम हिंदी और अंग्रेजी में नीचे टेबल में पढ़ें-

एम.बी.बी.एस. की फुल फॉर्म हिंदी में (MBBS Full Form In Hindi)एम.बी.बी.एस. की फुल फॉर्म अंग्रेजी में (MBBS Full Form In English)
“औषधि स्नातक तथा स्नातक शल्यचिकित्सा” (Aushadhi Snatak Ttha Snatak Shalaychikitsa)“बैचलर ऑफ मेडिसिन एंड बैचलर ऑफ सर्जरी” (Bachelor of Medicine and Bachelor of Surgery) 

ये फुल फॉर्म भी देखें

एमबीए की फुल फॉर्म (MBA Full Form In Hindi)
इसरो की फुल फॉर्म (ISRO Full Form In Hindi)
आईटीआई की फुल फॉर्म (ITI Full Form In Hindi)
एनडीए की फुल फॉर्म (NDA Full Form In Hindi)

एम.बी.बी.एस. की पढ़ाई के लिए योग्यता

  • उम्मीदवार 12वीं उत्तीर्ण होना चाहिए।
  • एम.बी.बी.एस. के प्रवेश परीक्षा के लिए आवेदन करते समय उम्मीदवार की न्यूनतम आयु 17 वर्ष होनी चाहिए।
  • एम.बी.बी.एस. कोर्स में दाखिले के लिए छात्र/छात्रा भौतिकी, जीवविज्ञान और रसायन विज्ञान जैसे विषय के साथ 12वीं पास होना चाहिए।
  • इस कोर्स में एसमिशन के लिए कम से कम 50% से 55% अंक होने चाहिए। लेकिन आरक्षित विद्यार्थियों को कुछ हद तक छूट दी जाती है।

एम.बी.बी.एस. एडमिशन प्रक्रिया

एम.बी.बी.एस. कोर्स में एडमिशन पाने के लिए आपको राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी द्वारा आयोजित नीट की परीक्षा अच्छे रैंक के साथ पास करनी होती है। अगर आप इस परीक्षा के लिए आवेदन करते हैं, तो इसका मतलब है कि आप सरकारी संस्थान/मेडिकल कॉलेज से एम.बी.बी.एस. कोर्स करने के लिए आवेदन कर रहे हैं। इस प्रवेश परीक्षा में कक्षा 11वीं और 12वीं के सीबीएसई पाठ्यक्रम से जुड़े विषय शामिल होते हैं। यह परीक्षा लगभग 3 घंटे की होती है जिसमें 200 प्रश्नों में से 180 बहुविकल्पीय प्रश्नों का उत्तर देना होता है। उसके बाद भारत में एम.बी.बी.एस. कोर्स में अपने प्रवेश को सुनिश्चित करने के लिए अभ्यर्थी को नीट कटऑफ को क्वालिफाई करने की आवश्यकता होती है। सामान्य श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए नीट कटऑफ 50 पर्सेंटाइल है, वहीं आरक्षित श्रेणी के अभ्यर्थियों के लिए यह कटऑफ 40 पर्सेंटाइल है। जो अभ्यर्थी नीट में अच्छे अंक और पर्सेंटाइल प्राप्त करते हैं, वही आगे की प्रक्रिया में भाग लेने के पात्र बन पाते हैं। उसके बाद नीट परिणाम और कटऑफ के आधार पर ही एम्स, जिपमर, मेडिकल संस्थान/मेडिकल महाविद्यालय में आपका दाखिला एम.बी.बी.एस. कोर्स के लिए होता हैं।

नीट परीक्षा पैटर्न

नीट परीक्षा पैटर्न को अच्छे से समझने के लिए आप एक बार नीचे दी गई तालिका को ध्यान से पढ़ें-

पैरामीटर्स विवरण
परीक्षा का नाम राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट)
आयोजित-कर्ता राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए)
उदेश्य एमबीबीएस, बीडीएस, आयुष, बीवीएससी और एएच, बीएससी आदि कोर्सों में प्रवेश
आवृति वर्ष में एक बार
नीट आवेदन मोड ऑनलाइन
नीट परीक्षा मोड ऑफलाइन (कलम और कागज आधारित)
परीक्षा की समयावधि 3 घंटे
कुल प्रश्नों की संख्या 200 (180 प्रश्न का उत्तर देना होता है)
कुल अंक 720
परीक्षा मार्किंग स्कीम प्रत्येक सही उत्तर के लिए 4 अंक
और प्रत्येक गलत उत्तर के लिए एक -1
परीक्षा में शामिल विषय भौतिक विज्ञान
रसायन विज्ञान
जीवविज्ञान
आधिकारिक वेबसाइट neet.nta.nic.in

एम.बी.बी.एस. कोर्स में एडमिशन के लिए आवश्यक दस्तावेज

  • कक्षा 10वीं और 12वीं का प्रमाण पत्र/मार्कशीट
  • सीट आवंटन पत्र
  • नीट यूजी स्कोर कार्ड
  • नीट एडमिट कार्ड
  • कम से कम आठ पासपोर्ट साइज फोटो
  • पहचान पत्र
  • जाती/श्रेणी या पीडब्ल्यूडी प्रमाण पत्र (यदि माँगा गया हो)

एम.बी.बी.एस. कोर्स की फीस

सरकारी संस्थान/महाविद्यालय में एम.बी.बी.एस. कोर्स के लिए एक वर्ष की फीस लगभग 6,000/- रुपए से लेकर 25,000,00/- या 50,000,00/- रु. तक होती है। वहीं गैर-सरकारी संस्थानों/महाविद्यालयों की एक वर्ष की फीस लाखों तक या लाखों से अधिक भी होती है।

एम.बी.बी.एस. कोर्स के लिए मान्यता प्राप्त संस्थानों/महाविद्यालयों/अस्पतालों के नाम

राष्ट्रीय चिकित्सा आयोग की आधिकारिक वेबसाइट के अनुसार कुछ मान्यता प्राप्त संस्थानों/महाविद्यालयों/अस्पतालों के नाम आप नीचे दी गई तालिका से देख सकते हैं-

क्रम संख्या संस्थानों/महाविद्यालयों/अस्पतालों के नामराज्य
1. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थानआंध्रप्रदेश
2. टोमो रिबा इंस्टीट्यूट ऑफ हेल्थ एंड मेडिकल साइंसेज अरुणाचल प्रदेश
3 गुवाहाटी मेडिकल कॉलेजअसम
4 अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, पटनाबिहार
5पटना मेडिकल कॉलेज बिहार
6 वर्धमान महावीर मेडिकल कॉलेज और सफदरजंग अस्पतालदिल्ली
7 बीजे मेडिकल कॉलेज, अहमदाबादअहमदाबाद
8 राजकीय शहीद हसन खान मेवाती मेडिकल कॉलेजहरियाणा
9इंदिरा गांधी मेडिकल कॉलेजहिमाचल प्रदेश
10 गांधी मेडिकल कॉलेज, भोपालमध्य प्रदेश

एम.बी.बी.एस. करने के बाद करियर विकल्प

एम.बी.बी.एस. कोर्स करने के बाद कोई अभ्यर्थी आगे स्नातकोत्तर स्तर की पढ़ाई तो कर ही सकता है। इसके अलावा वह चिकित्सा से जुड़े विभिन्न क्षेत्रों में अच्छे वेतन के साथ डॉक्टर की नौकरी भी कर सकता है। यह कोर्स विद्यार्थियों को कई अवसर प्रदान करती है। इसके साथ ही कुछ और भी सुरक्षित और आकर्षक नौकरियाँ हैं, जिन्हें अभ्यर्थी एम.बी.बी.एस. के बाद कर सकते हैं, जैसे-

  • पोषण विशेषज्ञ
  • चिकित्सा समीक्षक
  • त्वचा विशेषज्ञ
  • मनोचिकित्सक
  • चिकित्सक
  • हृदय रोग विशेषज्ञ
  • मुख्य चिकित्सा अधिकारी
  • चिकित्सा व्याख्याता (प्रोफेसर)
  • न्यूरोलॉजिस्ट
  • शोधकर्ता
  • वैज्ञानिक
  • जूनियर डॉक्टर
  • जूनियर सर्जन
  • प्रसूतिशास्त्री
  • दाई
  • जनरल सर्जन

एम.बी.बी.एस. छात्र/छात्रा को किन क्षेत्रों में नौकरियाँ मिल सकती हैं?

  • सरकारी अस्पताल
  • प्रयोगशाला
  • गैर-सरकारी अस्पताल
  • बायोमेडिकल कंपनी
  • मेडिकल कॉलेज
  • फार्मास्यूटिकल कंपनी
  • बायो टेक्नोलॉजी कंपनी
  • अन्य कई सरकारी सेवा संस्थानों में भी मेडिकल के विद्यार्थियों की भर्तियाँ होती हैं

एम.बी.बी.एस. करने के बाद वेतन

वर्तमान समय में एम.बी.बी.एस. किए हुए डॉक्टर को प्रति माह लगभग 60,000/- से 1 लाख रुपये तक वेतन प्राप्त होता है। यह वेतन ज़्यादा तथा कम भी हो सकता है लेकिन यह सच है कि एम.बी.बी.एस. कोर्स पूरा करने के बाद अभ्यर्थियों को सबसे अच्छा वेतन प्राप्त होता है। अनुभवी बनने के बाद लगभग सभी डॉक्टर 1 लाख या उससे अधिक प्रति माह वेतन प्राप्त करते हैं।

FAQs
प्रश्न: एम.बी.बी.एस. क्या है?

उत्तर: एम.बी.बी.एस. एक स्नातक डिग्री कोर्स है जोकि चिकित्सा विज्ञान की प्रोफ़ेसनल डिग्री है। इस डिग्री को प्राप्त करने के बाद ही अभ्यर्थी डॉक्टर बन पाते हैं।

प्रश्न: एम.बी.बी.एस. कोर्स कितने वर्ष का होता है?

उत्तर: साढ़े पाँच वर्ष।

प्रश्न: एम.बी.बी.एस. का हिंदी में पूरा नाम बताएं?

उत्तर: “औषधि स्नातक तथा स्नातक शल्यचिकित्सा”।

प्रश्न: नीट कि परीक्षा कौन आयोजित करवाता है?

उत्तर: राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (एनटीए)।

प्रश्न: एम.बी.बी.एस. करने के लिए कौन-सी परीक्षा पास करनी होती है?

उत्तर: एम.बी.बी.एस. करने के लिए राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) पास करनी होती है।

प्रश्न: एम.बी.बी.एस. की एक साल की फीस कितनी होती है?

उत्तर: सरकारी संस्थान/महाविद्यालय में एम.बी.बी.एस. कोर्स के लिए एक साल की फीस लगभग 6,000/- रुपए से लेकर 25,000,00/- या 50,000,00/- रु. तक होती है। वहीं गैर-सरकारी संस्थानों/महाविद्यालयों की एक साल की फीस लाखों तक या लाखों से अधिक भी हो सकती है।

अन्य फुल फॉर्म के लिएयहाँ क्लिक करें

1 thought on “MBBS Full Form In Hindi: एम.बी.बी.एस. क्या है, योग्यता, एडमिशन प्रक्रिया, करियर”

Leave a Comment