एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 हिंदी दूर्वा पाठ 7 पुस्तकें जो अमर हैं

Photo of author
PP Team

छात्र इस आर्टिकल के माध्यम से एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 हिंदी दूर्वा पाठ 7 पुस्तकें जो अमर हैं प्राप्त कर सकते हैं। छात्र कक्षा 7 हिंदी पाठ 7 के प्रश्न उत्तर मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं। छात्रों के लिए दूर्वा भाग 2 कक्षा 7 के प्रश्न उत्तर साधारण भाषा में बनाए गए हैं। दूर्वा भाग 2 कक्षा 7 chapter 7 के माध्यम से छात्र परीक्षा की तैयारी बेहतर तरीके से कर सकते हैं। कक्षा 7 वीं हिंदी अध्याय 7 पुस्तकें जो अमर हैं के प्रश्न उत्तर सीबीएसई सिलेबस को ध्यान में रखकर बनाए गए हैं।

देखा गया है कि durva hindi book class 7 solutions के लिए छात्र बाजार में मिलने वाली गाइड पर काफी पैसा खर्च कर देते हैं। लेकिन यहां से ncert class 7 hindi durva solutions chapter 7 पूरी तरह से मुफ्त में प्राप्त कर सकते हैं। durva bhag 2 किताब बहुत ही रोचक है। आइये फिर नीचे ncert solutions for class 7 hindi durva chapter 7 पुस्तकें जो अमर हैं देखते हैं।

NCERT Solutions Class 7 Hindi Durva Chapter 7 पुस्तकें जो अमर हैं

कक्षा 7 हिंदी एनसीईआरटी समाधान का उदेश्य केवल अच्छी शिक्षा देना है। कक्षा 7 वीं हिंदी अध्याय 7 पुस्तकें जो अमर हैं के प्रश्न उत्तर राष्ट्रीय शैक्षिक अनुसंधान और प्रशिक्षण परिषद के सहायता से बनाए गए है। छात्र नीचे cbse hindi textbook for class 7 with answers प्राप्त कर सकते हैं।

कक्षा : 7
विषय : हिंदी (दूर्वा भाग -2)
अध्याय : 7 (पुस्तकें जो अमर हैं
)

प्रश्न अभ्यास

1 . पाठ से :-

(क) सी ह्यांग ती के समय में पुस्तकें कैसे बनाई जाती थीं ?

उत्तर :- उन दिनों पुस्तकें ऐसी नहीं होती थी जैसी आज है, तब न तो कागज़ होते और न ही छापेखाने,  इसलिए लकड़ी के टुकड़ो पर खोद कर अक्षर लिखे जाते थे।

(ख) पाठ के आधार पर बताओ कि राजा को पुस्तकों से क्या खतरा था ?

उत्तर :- राजा का कहना था कि कुछ कहानियों में उसका और उसके पूर्वजों का ही गुणगान किया गया है। कौन जाने ऐसे लेखक भी हों जिन्होंने सम्राट को बुरा–भला कहने की हिम्मत की हो ! किसी के बारे में अगर बुरा लिखा हुआ तो इससे उनको खतरा हो सकता है। क्योंकि फिर उनकी कोई इज्जत नहीं करेगा। सी ह्यांग ती का कहना था कि प्रजा को पढ़ने और उन बातों से क्या मतलब ? उसे तो चाहिए कि कस कर मेहनत करे, चुपचाप राजा की आज्ञाओं का पालन करती जाए और कर चुकाती रहे। शांति तो बस ऐसे ही बनी रह सकती है।

(ग) पुराने समय से ही अनेक व्यक्तियों ने पुस्तकों को नष्ट करने का प्रयास किया। पाठ में से कोई तीन उदाहरण ढूँढ़कर लिखो।

उत्तर :- सबसे पहले हम चीनी सम्राट सी ह्यांग ती के नाम का उदाहरण देखते है। उसने अपने समय में राज्य में विद्यमान सभी पुस्तकों को जलवा दिया था। जो पुस्तकें नहीं देता उसे दीवार में किताबों सहित दफना दिया जाता था। दूसरा उदाहरण भारत में छठी शताब्दी में नालंदा विश्वविद्यालय था। इसे आक्रमणकारियों ने जलाकर राख कर दिया था। तीसरा उदाहरण प्राचीन नगर सिकंदरिया में स्थित एक बड़े पुस्तकालय का है।

(घ) बार-बार नष्ट करने की कोशिशों के बाद भी किताबें समाप्त नहीं हुई। क्यों ?

उत्तर :- कुछ पुस्तकें जिनके बारे में सोचा जाता था कि वे हमेशा के लिए बरबाद कर दी गई हैं, फिर से अपने पुराने या नए रूपों में प्रकट होती रहीं। क्योंकि पुस्तकें मनुष्य की चतुराई, अनुभव, ज्ञान, भावना, कल्पना और दूरदर्शिता , इन सबसे मिलकर बनती हैं। ऐसे भी लोग हैं जिन्हें पुस्तके प्राणों से भी प्यारी होती है। अपनी मनपसंद पुस्तकों के लिए वे बड़े से बड़ा खतरा झेल सकते हैं। ऐसे भी लोग हैं जो अपनी प्रिय पुस्तक के खो जाने पर परेशान नहीं होते क्योंकि समूची पुस्तक उन्हें ज़बानी याद होती है। पुराने जमाने में लिखे हुए को कठस्थ कर लेने का लोगों का अनोखा ढंग था। यूनानी महाकवि होमर (जिसका काल ईसा से नौ सौ वर्ष पूर्व है) के महाकाव्य ‘ इलियड ‘ तथा ‘ ओडीसी ‘ पेशेवर गानेवालों की पीढ़ी–दर–पीढ़ी को कंठस्थ थे। इन दोनों महाकाव्यों में कुल मिलाकर अट्ठाईस हजार पंक्तियाँ हैं। कुछ चारण तो इससे चौगुना याद कर सकते थे। यही कारण हैं कि पुस्तकें नष्ट करने के बाद भी समाप्त नहीं हुई।

2. तुम्हारी बात:-

(क) किताबों को सुरक्षित रखने के लिए तुम क्या करते हो ?

उत्तर :- हम किताबों को सुरक्षित रखने के लिए उन पर कवर चढ़ाते है। उनके लिए लकड़ी से शेल्फ बनवाते है ताकि किताबों को कोई नुकसान ना हो।

(ख) पुराने समय में किताबें कुछ लोगों तक ही सीमित थीं। तुम्हारे विचार से किस चीज़ के आविष्कार से किताबें आम आदमी तक पहुँच सकीं ?

उत्तर :- पुराने समय में पुस्तकें आम आदमी की पहुँच से इसलिए बाहर थी क्योंकि वह लकड़ी के टुकड़ों या पत्थरों पर खोदकर बनाई जाती थी। उन्हें सुरक्षित और सब तक उठाकर ले जाने में मुश्किल होती थी। लेकिन अब कागज़ और इंटरनेट के आने के बाद सब बदल गया है। अब किताबें तो लोगों के फोन में होती है।

3. सही शब्द भरों:-

(क) साहित्य की दृष्टि से भारत का ……………. महान है। (अतीत/भूगोल)

(ख) पुस्तकालय के तीन विभागों को जलाकर ……………. कर दिया गया। (गर्म/राख)

(ग) उसे किताबों सहित ………….. में दफ़ना दिया गया। (ज़मीन/आकाश)

(घ) कागज़ ही जलता है, ………….. तो उड़ जाते हैं। (शब्द/पांडुलिपियाँ)

उत्तर:- (क) साहित्य की दृष्टि से भारत का अतीत महान है। (अतीत/भूगोल)

(ख) पुस्तकालय के तीन विभागों को जलाकर राख कर दिया गया। (गर्म/राख)

(ग) उसे किताबों सहित ज़मीन में दफ़ना दिया गया। (ज़मीन/आकाश)

(घ) कागज़ ही जलता है, शब्द तो उड़ जाते हैं। (शब्द/पांडुलिपियाँ)

4. पढ़ो, समझों और करों:-

इतिहास –  इतिहासकार

शिल्प   ………

गीत     ………

संगीत  ………

मूर्ति    ………

रचना   ………

उत्तर :-  शिल्प- शिल्पकार

गीत – गीतकार

संगीत – संगीतकार

मूर्ति – मूर्तिकार

रचना – रचनाकार

5. दोस्ती किताबों से:-

(क) तुमने अब तक पाठ्यपुस्तकों के अतिरिक्त कौन-कौन सी पुस्तकें पढ़ी हैं ? उनमें से कुछ के नाम लिखो।

उत्तर :- अभिज्ञान शाकुन्तलम्,  एज यू लाइक इट, गीतांजलि, आनन्दमठ, कम्युनिष्ट मेनीफेस्टो,‌ मीनकाम्फ ।

(ख) क्या तुम किसी पुस्तकालय या पत्रिका के सदस्य हो ? उसका नाम लिखो।

उत्तर :- मैं हमारे शहर दिल्ली के प्रसिद्ध पुस्तकाल्य दिल्ली पब्लिक लाइब्रेरी का सदस्य हूँ। यह 1951 में यूनेस्‍को परियोजना के रूप में प्रारम्‍भ की गयी थी और इसका उद्घाटन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू द्वारा किया गया था।

6. कहानी किताबों की:-

मान लो कि तुम एक किताब हो। नीचे दी गई जगह में अपनी कहानी लिखो।

मैं एक किताब हूँ। पुराने समय से ………………………………………………………………………….…………………………………………………………………………….…………………………………………………………………………….…………………………………………………………………………….…………………………………………………………………………….…………………………………………………………………………….…………………………………………………………………………….…………………………………………………………………………….…………………………………………………………………………….

उत्तर :- पुराने समय से मैनें तुम्हारें जीवन में बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं और मैं तुम्हारीं मार्गदर्शक कहलाई हूँ। मेरे आने के बाद पुस्तकों तुम सबके जीवन में ज्ञान के आदान-प्रादान में क्रांति सी आ गयी, जो की मानव विकास के लिये बहुत ही निर्णायक साबित हुई। मैं तुम्हारें जीवन का आधार बन गई हूँ। मैं एक दोस्त की तरह तुम्हें जीवन में राह दिखाती हूँ। मेरे साथ ने तुम्हारें जीवन में कई परिवर्तन किए है।

7. वाक्य विश्लेषण :-

किसी भी वाक्य के दो अंग होते हैं- उद्देश्य और विधेय। वाक्य का विश्लेषण करने में वाक्य के इन दोनों खंडों और अंगों को पहचानना होता है।

नीचे लिखे वाक्य का विश्लेषण करो।

मोहन के गुरू जी श्याम पट्ट पर प्रश्न लिख रहे हैं।

उत्तर :-  मुख्य उद्देश :- मोहन

कर्ता का विशेषण :- गुरुजी

क्रिया :-  लिख रहे है

कर्म :- प्रश्न

विधेय विस्तारक :- श्याम पट्ट पर

8. बातचीत

आगे ‘किताबें’ नामक कविता दी गई है। उसे पढ़ो और उस पर आपस में बातचीत करो।

उत्तर : छात्र इसका उत्तर खुद लिखें।

एनसीईआरटी समाधान कक्षा 7 हिंदी दूर्वा भाग 2 के सभी अध्याय नीचे देखें

कक्षा 7 हिंदी दूर्वा भाग 2

अध्यायअध्याय के नाम
1चिड़िया और चुरुंगुन
2सबसे सुंदर लड़की
3मैं हूँ रोबोट
4गुब्बारे पर चीता
5थोड़ी धरती पाऊँ
6गारो
7पुस्तकें जो अमर हैं
8काबुलीवाला
9विश्वेश्वरैया
10हम धरती के लाल
11पोंगल
12शहीद झलकारीबाई
13नृत्यांगना सुधा चंद्रन
14पानी और धूप
15गीत

छात्रों को durva hindi book class 7 के लिए एनसीईआरटी समाधान प्राप्त करके काफी ख़ुशी हुई होगी। हमारा प्रयास है कि छात्रों को बेहतर ज्ञान दिया जाए। छात्र एनसीईआरटी पुस्तक या सैंपल पेपर आदि की अधिक जानकारी के लिए parikshapoint.com की वेबसाइट पर जा सकते हैं।

इस आर्टिकल के मुख्य पेज के लिएयहाँ क्लिक करें

Leave a Reply